क्या समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन होगा?

 बुधवार, 15 फ़रवरी, 2012 को 17:13 IST तक के समाचार

मुलायम सिंह ने कहा कि ज़रूरत पड़ने पर ही वे कांग्रेस को समर्थन देंगें

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने संकेत दिए हैं कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से दूर रखने के लिए कांग्रेस का साथ दे सकती है.

उनका कहना था कि अगर भाजपा के सत्ता में आने के आसार दिखे, तो सांप्रदायिक गुटों को दरकिनार करने के लिए वे कांग्रेस को समर्थन दे सकते हैं.

हमीरपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, "समाजवादी पार्टी के समर्थन की लहर उत्तर प्रदेश में दौड़ रही है. सपा ही यूपी में अगली सरकार बनाएगी. अगर भाजपा सत्ता के करीब आती हुई दिखाई देती है, तो हमारी पार्टी सांप्रदायिक गुटों को सत्ता से दूर रखने के लिए कांग्रेस को समर्थन दे सकती है."

उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को ये सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि हर मतदाता चुनाव केंद्र में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करें.

प्रचार

उन्होंने कार्यकर्ताओं को पार्टी की विचारधारा का प्रचार करने के लिए भी कहा.

"समाजवादी पार्टी के समर्थन की लहर उत्तर प्रदेश में दौड़ रही है. सपा ही यूपी में अगली सरकार बनाएगी. अगर भाजपा सत्ता के करीब आती हुई दिखाई देती है, तो हमारी पार्टी सांप्रदायिक गुटों को सत्ता से दूर रखने के लिए कांग्रेस को समर्थन दे सकती है"

मुलायम सिंह यादव

कई पार्टियों ने मुलायम सिंह की पार्टी पर आरोप लगाए कि उनकी सरकार के राज में यूपी में गुंडागर्दी को बढ़ावा मिला था.

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मुलायम सिंह ने कहा, "मेरी पार्टी ये सुनिश्चित करेगी कि हर गुंडे और माफ़िया को जेल भेजा जाएगा."

यूपी में आज तीसरे चरण का मतदान हुआ है और आगामी 19 तारीख को चौथे चरण का मतदान होगा.

सातवें और आख़िरी चरण का मतदान तीन मार्च को होगा और मतगणना छह मार्च को होगी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.