गोलीबारी में मछुआरों की मौत: इतालवी राजदूत तलब

भारतीय मछुआरों की नौका जिस पर हमला हुआ इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अधिकारियों का कहना है कि इस नौका पर 11 मछुआरे सवार थे

केरल के कोच्ची के समुद्र तट पर दो व्यक्तियों को गोली मारने के मामले में भारतीय अधिकारियों ने इटली के राजदूत को तलब किया है.

अधिकारियों का कहना है कि ये घटना बुधवार की शाम है जब एक इतालवी तेल टैंकर ने भारतीय नौका पर गोलीबारी की थी.

भारत का कहना है कि मारे गए दोनों लोग निर्दोष मछुआरे थे लेकिन इटली भारत के आरोपों का विरोध कर रहा है.

इस तेल वाहक जहाज के चालक दल के सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया है और जाँच के आदेश दे दिए गए हैं.

जहाज को कोच्ची के तट के पास रोक लिया गया है.

इतालवी राजदूत गियाकोमो सैंफेलाइस दी मोंतेफोर्तो ने दिल्ली में पत्रकारों से कहा कि इतालवी कर्मचारियों तयशुदा प्रोटोकॉल का पालन किया है.

पूछताछ

हालांकि भारत के जहाजरानी के महानिदेशक की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, "गोलीबारी की वजह से दो भारतीय मछुआरों की मौत हो गई है. ये जहाज सिंगापुर से मिस्र जा रहा था और इसके चालक दल में 19 भारतीय थे."

सोमालिया और अदन की खाड़ी में जहाजों के अपहरण और जलदस्युओं के हमले के बाद से बाद से हर जहाज़ में चालक दल के सदस्य अपने साथ बंदूकधारी भी रखने लगे हैं.

इस बीच एक भारतीय तटरक्षा अधिकारी ने अपना नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि ये आश्चर्यजनक है कि इतालवी लोग भारतीय मछुआरों को जलदस्यु समझा था.

उनका कहना है, "उन्हें गोलीबारी नहीं करनी चाहिए थी. जहाजों का अपहरण समुद्र के बीच में होता है, कोई भी जलदस्यु तट के इतने नज़दीक ऐसे प्रयास नहीं करता."

हालांकि इतालवी राजदूत का कहना है कि चालक दल के सदस्यों ने पहले चेतावनी देने के लिए गोलियाँ चलाईं थीं और उनके निशाने पर नौका नहीं थी.

अधिकारियों का कहना है कि इस नौका पर 11 मछुआरे सवार थे.

अधिकारियों का कहना है कि जहाज पर छह हथियार बंद गार्ड्स थे और अब उनके पूछताछ की जा रही है कि आखिरकार हुआ क्या था.

इस गोलीबारी के बाद तटरक्षकों ने जो नौकाओं और एक विमान को इस जहाज की तलाश में रवाना किया था.

भारतीय नौसेना ने पिछले कुछ समय में जलदस्युओं से निपटने में अहम भूमिका निभाई है और वे समुद्र में जरुरत पड़ने पर जहाजों को सुरक्षा प्रदान करते हैं.

संबंधित समाचार