रेल बजट: सभी श्रेणी में रेल यात्रा महंगी हुई

दिनेश त्रिवेदी इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption दिनेश त्रिवेदी ने कहा है कि रेलवे की आर्थिक हालत खस्ता है

वित्तीय संकट का सामना कर रहे भारतीय रेल को उबारने के लिए रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने सभी श्रेणी के यात्री किराए में बढ़ोत्तरी करने की घोषणा की है.

इस बढ़ोत्तरी को 'मामूली बढ़ोत्तरी' बताते हुए उन्होंने यात्री किराए में दो पैसे प्रतिकिलोमीटर से 30 पैसे प्रति किलोमीटर तक की बढ़ोत्तरी करने की घोषणा की है.

उन्होंने 'जान है तो जहान है' को मूलमंत्र बताते हुए सुरक्षा को रेलवे की प्राथमिकता बताया है और कई अहम घोषणाएँ की हैं.

रेल बजट: ख़ास बिंदु

इसमें अगले पाँच साल में बिना गेट वाले सारे लेवल क्रॉसिंग को ख़त्म करना, स्वायत्त रेल सुरक्षा अधिकरण की स्थापना, रेलवे रिसर्च डवलपमेंट काउंसिल की स्थापना और रेल रोड ग्रेड सेपरेशन कॉर्पोरेशन शामिल है.

रेलमंत्री से उनकी ही पार्टी नाराज़

इसके अलावा रेलमंत्री ने देश भर में 75 नई एक्सप्रेस, 21 नई पैसेंजर ट्रेन चलाने की घोषणा की है. उन्होंने मुंबई में भी 75 नई लोकल ट्रेनें चलाने का प्रस्ताव किया है.

यात्री किराए में बढ़ोत्तरी

दिनेश त्रिवेदी ने अपना पहला और भारतीय रेलवे का 81 वाँ बजट पेश किया.

बजट में शेरो शायरी

वैसे दिनेश त्रिवेदी तृणमूल कांग्रेस के सदस्य हैं और तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने यात्री किराए में बढ़ोत्तरी का सार्वजनिक रुप से विरोध किया था लेकिन इसके बावजूद रेलमंत्री ने यात्री किराए में बढ़ोत्तरी की घोषणा की है.

रेलवे की खस्ता आर्थिक हालत पर चिंता ज़ाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि रेल को सुचारु रुप से चलाने के लिए उन पर आर्थिक संसाधन जुटाने का दबाव है और इसलिए वे यात्री किराए में मामूली बढ़ोत्तरी कर रहे हैं.

उन्होंने पैसेंजर ट्रेनों में साधारण दर्जे की यात्रा में दो पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोत्तरी की घोषणा की है.

नए बजट के अनुसार एक्सप्रेस ट्रेन के किरायों में पाँच पैसे प्रति किलोमीटर, एसी चेयरकार और एसी-3 में 10 पैसे प्रति किलोमीटर, एसी-2 के किराए में 15 पैसे प्रति किलोमीटर और एसी-1 के किराए में 30 पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोत्तरी हो जाएगी.

इसके अलावा प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत भी अब तीन रुपए की जगह पाँच रुपए हो जाएगी.

रेलमंत्री ने कहा कि रेल यात्री किराए में पिछले आठ वर्षों से कोई बढ़ोत्तरी नहीं की थी और जो बढ़ोत्तरी की जा रही है उससे पिछले आठ वर्षों में ईंधन की कीमतों में जो बढ़ोत्तरी हुई है, उसकी भी भरपाई नहीं हो सकती.

एयरपोर्ट की तरह स्टेशन

उन्होंने कहा कि 19 हज़ार किलोमीटर पटरियाँ सुधारी जाएंगीं और तीन हज़ार किलोमीटर की लाइनों पर ऑटोमैटिक सिग्नल की व्यवस्था की जाएगी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption स्टेशनों के आधुनिकीकरण का प्रस्ताव भी रखा गया है

रेलमंत्री ने कहा कि नौ हज़ार से 12 हज़ार एचपी वाले बिजली इंजन लाए जाएंगे और ट्रैक 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार के लायक होंगे.

उनका कहना था कि इससे दिल्ली से कोलकाता के बीच की दूरी ट्रेन 17 की बजाय 14 घंटे में पूरी कर लेगी.

उन्होंने शताब्दी ट्रेन की रफ़्तार बढ़ाने की भी घोषणा की है.

रेलमंत्री ने रेलवे स्टेशनों को आधुनिक बनाने के लिए एक संस्था के गठन की भी घोषणा की है.

'इंडियन रेलवे स्टेशन डवलपमेंट कॉर्पोरेशन' नाम की ये संस्था रेलवे स्टेशन को एयरपोर्ट की तरह विकसित करेगी. लक्ष्य है कि अगले पाँच वर्षों में 110 स्टेशनों का आधुनिकीकरण किया जाए.

दिनेश त्रिवेदी ने राज्य सरकारों से भी अनुरोध किया गया है कि वे भी हिस्सेदारी करें और बिना किसी लागत के ज़मीनें उपलब्ध करवाएँ जिससे कि शीघ्रता से नई लाइनों का निर्माण हो सके.

उन्होंने घोषणा की है कि सरकारी और निजी क्षेत्र की भागीदारी से छत्तीसगढ़ में तीन नए रेल कॉरिडोर की स्थापना की जाएगी. इसके लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया जा चुका है.

नए टॉयलेट

Image caption यात्री किरायों में पिछले आठ वर्षों से बढ़ोत्तरी नहीं की गई थी

रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी ने चार नए रेल कोचिंग इंस्टिट्यूट शुरु करने से लेकर एक लाख नई नौकरियों की घोषणा की है.

उन्होंने कहा है कि रेलवे इस वर्ष अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए आरक्षित पदों पर भर्ती का बैकलॉग पूरा किया जाएगा.

इसके अलावा उन्होंने डबल डेकर मालगाड़ियां शुरू करने की भी घोषणा की है.

रेलवे स्टेशनों की साफ-सफाई और रखरखाव के लिए भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम के गठन की घोषणा भी बजट में की गई है.

काकोडकर समिति ने ट्रेनों में मौजूदा शौचालयों को बदलने की अनुशंसा करते हुए कहा था कि इससे रेल पटरियों को नुकसान हो रहा है. समिति की सिफ़ारिशों के अनुरुप उन्होंने रेलवे में खुले शौचालयों की जगह ग्रीन शौचालय लगाने की घोषणा की है.

दिनेश त्रिवेदी ने कहा है कि शुरुआत में 2500 कोचों में अगले साल तक बायो-टॉयलेट लगाए जाएंगे.

उन्होंने कहा है कि राजधानी एक्सप्रेस जैसी कुछ ट्रेनों में वैक्यूम टॉयलेट लगाए जाएँगे और सफलता के आधार पर इसका विस्तार किया जाएगा.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है