नहीं चाहिए बेकार लोकपाल बिल: अन्ना हज़ारे

अन्ना हजारे इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption अन्ना हज़ारे दो बार लोकपाल विधेयक को लेकर अनशन कर चुके हैं

राजनीतिक पार्टियों के बीच लोकपाल के मुद्दे पर कोई सहमति न बनने पर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने सरकार के 'बेकार बिल' को वापिस लेने की मांग दोहराई है.

उनका कहना है कि भ्रष्टाचार का सामना करने के लिए कमजोर कानून लाने का कोई मतलब नहीं है.

उल्लेखनीय है कि लोकपाल विधेयक पर सहमति बनाने के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को सभी राजनीतिक दलों के नेताओं की एक बैठक बुलाई थी लेकिन इसमें कोई सहमति नहीं बन सकी.

सभी राजनीतिक दलों ने लोकपाल विधेयक में संशोधनों की अपनी पुरानी मांग दोहराई है.

इसके बाद पत्रकारों से अन्ना हज़ारे ने कहा, ''आज सर्वदलीय बैठक हुई लेकिन पार्टियों की किसी सहमति पर न पहुंचने की वजह से इसमें कोई फैसला नहीं हुआ. अब चाहे सरकार लोकपाल बिल लाए या न लाए, हम लोगों की संसद में जाएंगे.''

अन्ना हजारे ने कहा कि वे इस मामले पर लोगों को जागरूक करने के लिए देश का दौरा करेंगे.

उन्होंने कहा, ''सरकार का लोकपाल बिल बेकार है. यह भ्रष्टाचार को खत्म नहीं करेगा. ऐसे कानून को लाने का कोई मतलब नहीं है."

संबंधित समाचार