'कश्मीर में 20 हज़ार लड़के मुकदमों के फेर में'

 शुक्रवार, 30 मार्च, 2012 को 05:48 IST तक के समाचार

कश्मीर की सड़कों पर हाल के वर्षों में बड़े पैमाने पर भारत-विरोधी प्रदर्शन हुए हैं

भारत प्रशासित कश्मीर में बीस से ज्यादा नाबालिग लड़कों को पुलिस ज्यादती का शिकार होना पड़ रहा है क्योंकि उन्हें तुरंत नोटिस पर अदालतों में पेशी के लिए जाना पड़ता है.

ये कहना है उन वकीलों का जो इन युवकों की पैरवी कर रहे हैं. इन किशोरों पर आरोप है कि उन्होंने भारत-विरोधी प्रदर्शनों के दौरान सुरक्षाबलों पर पथराव किया.

बीते साल अधिकारियों ने उन लड़कों के लिए 'आम माफी' की घोषणा की थी जो मामूली अपराधों में शामिल थे. लेकिन अधिकारियों ने बाद में यह भी कह दिया था कि इनमें से किसी का भी मुकदमा बंद नहीं किया गया है.

स्कूल से अदालत

मेहबूबा बेगम

"गैंगस्टर, चोर और दूसरे अपराधियों को तो जमानत पर छोड़ देते हैं और कभी तलब भी नहीं करते लेकिन हमारे बच्चे को प्रताड़ित करते हैं. ये कैसी माफी है?"

गुरुवार को श्रीनगर की अदालत के बाहर मौजूद ऐसे दर्जनभर किशोरों में से एक किशोर का कहना था, ''मेरे स्कूल की एक टीम भारत के शहरों के दौरे पर जा रही है लेकिन मैं नहीं जा पा रहा. पुलिसवालों ने मेरे माता-पिता से कहा कि मैं यदि सुनवाई के दौरान गैर-हाजिर रहा तो मुझे फिर गिरफ्तार कर लिया जाएगा. लेकिन दिक्कत ये है कि वो पहले से नहीं बताते कि कब पेशी है, वो बताते ही नहीं हैं.''

इन बच्चों की पैरवी करने वाले एक स्थानीय समूह का कहना है कि अधिकारी इन बच्चों के मन में 'खौफ' भर देते हैं क्योंकि पुलिस उन्हें लगातार तलब करती रहती है और ज्यादातर ऐसा होता है कि इन बच्चों को सीधे स्कूल से अदालत की दौड़ लगानी पड़ती है.

इस समूह के बाबर जान कादरी ने बीबीसी को बताया, ''अधिकारी कहते हैं कि केवल पांच हजार लोगों को गिरफ्तार किया गया, लेकिन मैं यह साबित कर सकता हूं कि बीते दो वर्षों में 20 हजार से ज्यादा गिरफ्तारियां हुई हैं.''

करियर का सवाल

ऐसे ही एक किशोर का नाम है मोहसिन अहमद जिसकी उम्र 15 साल है. वो अपनी मां मेहबूबा बेगम के साथ अदालत में हाजिर हुआ.

मोहसिन की मां कहती हैं, ''गैंगस्टर, चोर और दूसरे अपराधियों को जमानत पर छोड़ देते हैं और कभी तलब नहीं करते लेकिन हमारे बच्चे को प्रताड़ित करते हैं. ये कैसी माफी है.''

बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाले ए आर हंजोरा कहते हैं कि बच्चों के साथ इस तरह के व्यवहार की वजह से उनके दिमाग पर असर पड़ रहा है, वो सोचते हैं कि उन्हें फंसाया जा रहा है और लगातार पीछा किया जा रहा है. इससे उनका करियर और जीवन दोनों बर्बाद हो जाएंगे.

बाबर जान कादरी

"अधिकारी कहते हैं कि केवल पांच हजार लोगों को गिरफ्तार किया गया, लेकिन मैं ये साबित कर सकता हूं कि बीते दो वर्षों में 20 हजार से ज्यादा गिरफ्तारियां हुई हैं."

कश्मीर की सड़कों पर हाल के वर्षों में बड़े पैमाने पर भारत-विरोधी प्रदर्शन हुए हैं और सरकार ने जब अभियान चलाया तो 120 से ज्यादा लड़के मारे गए.

बीता साल अपेक्षाकृत शांतिपूर्ण रहा और गर्मियों के दौरान दस लाख से ज्यादा पर्यटक यहां आए. लेकिन समूहों का कहना है कि 'शांति के नाम पर' अधिकारियों ने दमनात्मक उपाए किए.

'जम्मू-कश्मीर कोएलेशन ऑफ सिविल सोसाइटीज़' के साथ काम करने वाले एक कार्यकर्ता कहते हैं, ''यहां तक कि बच्चों के हाथ में हथकड़ी लगाई जा रही है और उन्हें अदालतों में अपराधियों की तरह पेश किया जा रहा है. गिरफ्तारी के डर से ज्यादातर बच्चे भारत के दूसरे हिस्सों में भाग गए हैं.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.