अगवा जहाज के भारतीय नाविकों को छुड़ाने के लिए बातचीत

सोमाली समुद्री डाकु इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सोमाली समुद्री डाकुओं ने एमवी रॉयल ग्रेस का अपहरण दो मार्च को किया था.

ओमान के तट के पास सोमाली समुद्री डाकुओं द्वारा अग़वा किए जहाज़ पर सवार 17 भारतीयों की रिहाई के लिए बातचीत चल रही है.

जहाज़ पर तैनात पांच नाविकों को नौकरी दिलाने वाले भारतीय एजेंट ने कहा है कि जहाज के दुबई स्थित मालिकों को समुद्री डाकुओं ने अपनी मांगें भेज दी हैं और उनसे बातचीत शुरू हो गई है.

एमवी रॉयल ग्रेस नाम का रसायनिक ढोने वाला जहाज़ दो मार्च को ओमान के तट के पास से अग़वा कर लिया गया था.

जहाज़ पर सवार नाविकों के परिवार को अपहरण के दो सप्ताह बाद इस घटना की ख़बर दी गई थी और अब तक उन्हें नाविकों की हालत के बारे में कुछ भी नहीं बताया गया है.

नाविकों की चिंता

ईस्ट इंडिया शिपिंग कंपनी एजेंसी के मनु चौहान ने बीबीसी को बताया, “परिजनों को इसलिए नहीं बताया गया क्योंकि जहाज़ के मालिक नहीं चाहते थे कि भारत सरकार को इस अपहरण का पता चले और वो मुकदमा कर दे. ”

ईस्ट इंडिया शिपिंग एजेंसी ने अगवा जहाज पर सवार पांच नाविकों को नौकरी दिलवाई थी.

मनु चौहान ने बताया है कि वो दुबई जा रहे हैं, जहां वे नाविकों की स्थिति पर और जानकारी हासिल करेंगे.

उन्होंने कहा कि वो ‘नैतिक ज़िम्मेदारी’ की वजह से नाविकों के परिवार की सहायता कर रहे हैं.

मनु चौहान ने कहा, “हमें नहीं मालूम कंपनी सीधे समुद्री डाकुओं से बात कर रही है या किसी एजेंसी के माध्यम से. हमारी चिंता सिर्फ़ नाविकों की सुरक्षा और रिहाई को लेकर है. ”

सत्रह भारतीयों के अलावा अगवा किए गए जहाज़ पर तीन नाइजीरियाई, एक पाकिस्तानी और बांग्लादेशी भी सवार हैं.

संबंधित समाचार