कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है: मायावती

 शनिवार, 14 अप्रैल, 2012 को 12:59 IST तक के समाचार
मायावती

उत्तर प्रदेश में मूर्तियां और पार्क बनवाने के मायावती की नीतियों की पहले भी काफी आलोचना हुई है.

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्य मंत्री मायावती ने शनिवार को एक सभा में कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में दलित स्मारकों को हटाकर वहां दूसरे निर्माण कार्य किए गए तो राज्य में कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है.

मायावती अंबेडकर जयंती के मौके पर लोगों को संबोधित कर रहीं थी.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने कहा था कि मायावती के शासनकाल में बनाए गए पार्कों में जो खाली जगह है वहां स्कूल-कॉलेज और अस्पताल बनाए जा सकते है.

मायावती के ताजा बयान का जवाब देते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि मायावती की नीतियों की वजह से जनता ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया.

जमीन का उपयोग

दिल्ली में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ''मायावती की सरकार ने जनता का पैसा मूर्तिया और स्मारक बनाने में बर्बाद किया, जिस वजह से जनता ने उन्हे सत्ता से बाहर कर दिया.''

"सबने देखा है कि मायावती ने नोएडा में पार्क बनाकर किस तरह से पर्यावरण की धज्जियां उड़ाई. इस जमीन का बेहतर उपयोग किया जा सकता था."

अखिलेश यादव, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश

अखिलेश यादव ने कहा कि उन्होंने चुनाव के बाद भी कहा था कि पार्कों में लगे स्मारकों को हटाया नहीं जाएगा.

उन्होंने कहा, ''सबने देखा है कि मायावती ने नोएडा में पार्क बनाकर किस तरह से पर्यावरण की धज्जियां उड़ाई. इस जमीन का बेहतर उपयोग किया जा सकता था.''

अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य में स्मारकों को बनाने में लगे जमीन का तीन हजार एकड़ जमीन खाली है और इस जगह पर अगर महिलाओं के लिए अस्पताल बनाया जाए तो किसी को एतराज नहीं होना चाहिए.

अखिलेश यादव ने शनिवार सुबह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात की जिसके बाद उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने उन्हें राज्य के विकास कार्यों में सहयोग करने का आश्वासन भी दिया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.