नरेंद्र मोदी को अमरीकी वीजा नहीं

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सुप्रीम कोर्ट की तरफ से गठित एसआईटी नरेंद्र मोदी को दंगों के मामले में क्लीन चिट दे चुकी है

अमरीका ने घोषणा की है कि उसने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर अपनी वीजा नीति में कोई बदलाव नहीं किया है.

वर्ष 2002 के गुजरात दंगों में कथित भूमिका के कारण अमरीका ने मोदी को मार्च 2005 में वीजा देने से इनकार कर दिया था.

अमरीकी विदेश विभाग की प्रवक्ता विक्टोरिया नुलैंड ने अपनी नियमित प्रेस कांफ्रेस में कहा, “मोदी के वीजा के मुद्दे पर हमारे रुख में बिल्कुल भी बदलाव नहीं आया है.”

नुलैंड अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को लिखे अमरीकी सांसद जो वाल्श के उस पत्र के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब दे रही थीं, जिसमें उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री को राजनयिक वीजा देने के बारे में सरकार के फैसले पर दोबारा विचार करने को कहा था .

कहा जा रहा है कि वाल्श ने लगभग पंद्रह दिन पहले यह पत्र लिखा. इस पत्र पर अमरीकी भारतीय मुस्लिम समुदाय (आईएएमसी) ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है.

इस समुदाय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि विदेश विभाग को मोदी को वीजा देने के बारे में अपनी 2005 की नीति को नहीं बदलना चाहिए.

महत्वपूर्ण है मोदी ने मार्च 2005 में अमरीकी वीजा के लिए आवेदन किया था. वह एशियाई अमरीकी होटल मालिकों के सालाना सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए अमरीका जाना चाहते थे.

लेकिन 2002 के गुजरात दंगों में कथित भूमिका के चलते उन्हें अमरीकी वीजा नहीं दिया गया.

संबंधित समाचार