नूपुर का आत्मसमर्पण, जमानत अर्जी खारिज

नूपुर तलवार
Image caption नूपुर और उनके पति राजेश तलवार के खिलाफ उनकी बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या के मामले में मुकदमा चल रहा है.

दिल्ली से सटे नोएडा में साल 2008 में हुई 14 वर्षीय आरूषि तलवार और तलवार परिवार के नौकर हेमराज की हत्या के मामले में अभियुक्त आरूषि की मां नूपुर तलवार की जमानत की अर्जी सीबीआई की विशेष अदालत ने खारिज कर दी है.

नूपुर तलवार को न्यायिक हिरासत में लेकर डासना जेल भेज दिया गया है.

तलवार की तरफ से उनके वकीलों ने सेशंस कोर्ट में नूपुर तलवार की जमानत याचिका दायर की जिस पर कोर्ट मंगलवार सुबह सुनवाई करेगी.

सीबीआई की विशेष अदालत का कहना है कि नूपुर तलवार पर लगाए गए आरोप की गंभीरता को देखते हुए उनको जमानत दे पाना संभव नहीं है.

दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा में साल 2008 में हुए आरुषि तलवार हत्याकांड में 14 वर्षीय आरुषि की माँ नूपुर तलवार ने सोमवार सुबह गाज़ियाबाद की विशेष सीबीआई अदालत में आत्मसमर्पण किया था.

विशेष सीबीआई मजिस्ट्रेट प्रीति सिंह की अदालत में नूपुर तलवार की तरफ से जमानत याचिका दायर की गई थी जिसका सीबीआई ने विरोध किया.

जमानत

अदालत में इस मामले की पहले हुए सुनवाइयों में नूपुर के उपस्थित नहीं होने के कारण गाज़ियाबाद कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी का वारंट जारी किया था.

मामले में पहले अभियुक्त बनाए गए तलवार परिवार के नौकर कृष्णा के वकील फतेह चंद्र ने कहा, “सेशंस कोर्ट ने अंतरिम जमानत की याचिका पर आदेश कल तक के लिए सुरक्षित रख लिया है. कल ये तय होगा कि उन्हें जमानत दी जाएगी या नहीं. तब तक वो जेल में रहेंगी.”

आरुषि तलवार और तलवार परिवार के नौकर हेमराज के मई 2008 में खून से लथपथ शव तलवार परिवार के नोएडा स्थित फ्लैट में पाए गए थे.

गौरतलब है कि इससे पहले नूपुर तलवार सुप्रीम कोर्ट गई थीं और वहाँ भी अदालत ने नूपुर तलवार को ट्रायल कोर्ट के सामने आत्मसमर्पण करने को कहा था.

सुप्रीम कोर्ट ने आरुषि की मां नूपुर के खिलाफ गाजियाबाद की ट्रायल कोर्ट की तरफ से जारी गिरफ्तारी वारंट पर रोक लगाने से भी इनकार कर दिया था.

सीबीआई ने आरोप लगाया था कि नूपुर तलवार विभिन्न अदालतों में याचिकाएं दायर करके मामले को लटकाना चाहती हैं. जांच एजेंसी ने सुप्रीम कोर्ट से नुपूर की पुनर्विचार याचिका को खारिज करने का आग्रह किया था.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने पहले के फैसले में निचली अदालत के उस निर्देश को बरकरार रखा था जिसमें नूपुर और राजेश तलवार को आरुषि हत्याकांड से जुड़े मुकदमे में अदालत में हाजिर होने को कहा गया.

नूपुर तलवार के वकीलों की तरफ से भी मामले में सीबीआई की भूमिका पर सवाल उठाए जाते रहे हैं.

नूपुर और उनके पति राजेश तलवार के खिलाफ उनकी बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या के मामले में मुकदमा चल रहा है.

संबंधित समाचार