मलीहाबाद का 'अखिलेश आम'

इमेज कॉपीरइट reuters
Image caption अखिलेश उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं.

आम के मौसम में दशहरी और लंगड़ा आम तो खाने को मिलता ही है लेकिन इस बार एक और आम लोगों को मिलेगा....’अखिलेश आम’.

जी हां अखिलेश आम यानी यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नाम पर रखा गया ‘अखिलेश आम.’

उत्तर प्रदेश के मलीहाबाद में आमों की कलम लगाने के विशेषज्ञ और पद्मश्री हाजी कलीमुद्दीन ने कहा है कि वो इस साल अखिलेश आम लेकर आएंगे.

कलीमुद्दीन इससे पहले ‘सचिन आम’ भी बना चुके हैं और बॉलीवुड अभिनेताओं ऐश्वर्य राय के नाम पर भी आम बना चुके हैं.

कलीमुद्दीन कलम लगाने में माहिर हैं और एक बार उन्होंने एक ही पेड़ पर करीब तीन सौ से क़िस्मों के आम उगाने का कारनामा भी कर दिखाया है.

उनकी रुचि राजनीति में पहले भी रही है और वो ‘सोनिया आम’ भी बना चुके हैं.

कलीमुद्दीन का कहना था कि उन्होंने आम को अखिलेश नाम इसलिए दिया है क्योंकि आम का एक पेड़ सिर्फ पांच साल में ही फल दे रहा है और कोई भी आम का पेड़ इतनी कम उम्र में फल नहीं देता है.

उन्होंने कहा, ‘‘ इस जवान पेड़ में फल हैं जिसका स्वाद अच्छा है तो मैंने फैसला किया कि इसे मुख्यमंत्री का नाम दिया जाए.’’

कलीमुद्दीन के अनुसार यह आम रंग में लाली लिए हुए होगा और करीब एक किलो का एक आम होगा.

एक ही पेड़ पर तीन सौ किस्म के आम उगाने के कारण कलीमुद्दीन को पद्मश्री से भी सम्मानित किया जा चुका है.

उनका कहना था कि जब ये ‘अखिलेश आम’ पकेंगे तो वो ये आम मुख्यमंत्री अखिलेश को भेंट करेंगे.

संबंधित समाचार