खलील चिश्ती को पाकिस्तान जाने की अनुमति

 गुरुवार, 10 मई, 2012 को 13:57 IST तक के समाचार
खलील चिश्ती

खलील चिश्ती भारत में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तानी नागरिक मोहम्मद खलील चिश्ती को पाकिस्तान जाने की अनुमति दे दी है. चिश्ती 82 वर्ष के हैं और उन्हें हत्या के एक मामले में 18 साल के मुकदमे के बाद उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी.

कोर्ट ने मानवीय आधार पर चिश्ती को पाकिस्तान जाने की अनुमति दी.

क्लिक करें खलील चिश्ती से बीबीसी की विशेष बातचीत

हालांकि कोर्ट ने चिश्ती की पाकिस्तान यात्रा पर कुछ शर्तें लगाई हैं और कहा है कि चिश्ती को अपने परिवार से मिलने के बाद एक नवंबर तक वापस भारत लौट जाना होगा.

चिश्ती करीब डेढ़ वर्ष जेल में रहे जिसके बाद उन्हें जमानत दे दी गई लेकिन इस शर्त पर की कि वो अजमेर से बाहर नहीं जा सकते हैं.

जरदारी ने भी चिश्ती का मामला उठाया था

82 वर्षीय मोहम्मद खलील चिश्ती माइक्रोबायोलॉजिस्ट हैं और 20 वर्ष पहले हुई हत्या के मामले में उन्हें आजीवन कारावास की सज़ा दी गई थी. यह सजा उन्हें 2011 में सुनाई गई थी.

खलील चिश्ती

"मैं भारतीय न्यायिक व्यवस्था का शुक्रिया अदा करता हूंकि उन्होंने मुझे पाकिस्तान जाकर अपने परिवार से मिलने की अनुमति दी."

यह फैसला आने के बाद संवाददाताओं से बातचीत में चिश्ती ने कहा, ‘‘ मैं भारतीय न्यायिक व्यवस्था का शुक्रिया अदा करता हूंकि उन्होंने मुझे पाकिस्तान जाकर अपने परिवार से मिलने की अनुमति दी. मैं पाकिस्तान से आग्रह करुंगा कि वो वहां बंद भारतीय कैदियों को रिहा करें.’’

कोर्ट में सुनवाई के दौरान जस्टिस पी सतासिवम और जे चेलामेश्वर की खंडपीठ ने इस मामले में गृह और विदेश मंत्रालय से आवश्यक निर्देश मांगे थे. कोर्ट चाहता था कि मंत्रालय ये बताएं कि चिश्ती की वापसी के लिए कौन सी शर्तें लगाई जा सकती हैं.

फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि सिर्फ इसलिए कि वो पाकिस्तानी है उनके साथ अलग रवैय्या नहीं अपनाया जाना चाहिए.

कोर्ट ने कहा कि चिश्ती की याचिका पर सुनवाई विशेष परिस्थितियों में की गई है.

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों जब पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी भारत आए थे तो भारतीय अधिकारियों से बातचीत के दौरान चिश्ती का मुद्दा भी उठा था.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.