पोंटी चड्ढा के वेव मेगा सिटी सेंटर पर काम रुकने से हलचल

 बुधवार, 16 मई, 2012 को 22:41 IST तक के समाचार
नोएडा

मायावती सरकार के दौरान पोंटी चडढ़ा को नोएडा में वेव मेगा सिटी सेंटर बनाने के लिए जमीन दी गई.

दिल्ली से सटे नोएडा में बहुचर्चित शराब व्यापारी पोंटी चड्ढा की वेव मेगा सिटी सेंटर परियोजना का काम रोके जाने से न केवल औद्योगिक बल्कि प्रशासनिक और राजनीतिक क्षेत्रों में भी हलचल है.

कयास लग रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के बेहद करीबी व्यापारी पोंटी चड्ढा वर्तमान अखिलेश यादव सरकार से नजदीकियां नही बढ़ा पाए हैं.

नोएडा अथॉरिटी के एक अधिकारी का कहना है कि वेव मेगा सिटी सेंटर कंपनी के लोग बिना नक्शा पास कराए बड़े पैमाने पर खुदाई कर रहे थे, जिसकी धूल अगल-बगल की कालोनियों में जा रही थी.

अथॉरिटी के फैसले पर नजर

इसलिए वेव मेगा सिटी सेंटर कंपनी से गड्ढे में मिट्टी भरकर उस पर पानी छिड़कने के लिए कहा गया है. कंपनी से यह भी कहा गया है कि वह तीन दिनों के अंदर खुदाई और प्रस्तावित योजना का पूरा विवरण दे.

इस आदेश से सिटी सेंटर योजना के निवेशकों में बेचैनी स्वाभाविक है, जबकि कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि सिर्फ तीन दिनों के लिए काम रोका गया है और इससे परियोजना को कोई खतरा नही है.

लखनऊ में सचिवालय के गलियारों में कहा जा रहा कि नोएडा सिटी सेंटर का काम रोका जाना एक तरह से नई सरकार पर पोंटी चड्ढा की पकड़ मजबूत न हो पाने का संकेत है.

मायावती

पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के कार्यकाल में पोंटी चड्ढ़ा सत्ता की सत्ता प्रतिष्ठान से काफी नजदीकियां थीं

लेकिन जानकार कहते हैं कि अभी तुरंत निष्कर्ष निकालना जल्दबाजी होगी. देखना होगा कि तीन दिन बाद नोएडा अथॉरिटी क्या निर्णय करती है?

कैसे अरबपति बने पोंटी चड्ढा

पोंटी चड्ढा उन व्यापारियों में से हैं जो बहुत साधारण आर्थिक हैसियत से उठकर अरबों-खरबों रुपये के कारोबार के मालिक बन गए.

कहा जाता है कि गुरदीप सिंह उर्फ पोंटी चड्ढा पहले अपने पिता के साथ अपने गृह नगर मुरादाबाद में एक देशी शराब के ठेके के सामने ठेला लगाते थे.

बाद में उनके पिता को शराब की दुकान का लाइसेंस मिल गया. और इसके बाद पोंटी चड्ढा अधिकारियों और नेताओं की मदद से शराब के एक बड़े व्यापारी बन गए.

बताया जाता है कि भाजपा, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी, सभी पार्टी के नेताओं की मदद से पोंटी चड्ढा ने अपने कारोबार को बढ़ाया.

उत्तर प्रदेश में पिछली मायावती सरकार में पोंटी चड्ढा का कारोबार तेज रफ्तार से बढ़ा. उन्हें पूरे उत्तर प्रदेश में शराब के व्यापार पर एकाधिकार मिल गया.

मायावती सरकार पर सरकारी चीनी मिलें पोंटी चड्ढा को औने-पौने दाम पर बेचने के आरोप हैं.

यही नहीं, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के आसपास की बेशकीमती जमीनें उनकी कंपनियों को दे दी गईं.

क्या होगा वेव मेगा सिटी सेंटर का

इन्ही में से एक है नोएडा में लगभग डेढ़ सौ एकड़ की सिटी सेंटर परियोजना. नोएडा अथॉरिटी ने यह जमीन वेव मेगा सिटी सेंटर प्राइवेट लिमिटेड को छह हजार पांच सौ सत्तर करोड़ रुपये में बेची.

नोएडा में निर्माण

मेगा सिटी सेंटर कंपनी का कहना है कि सिर्फ तीन दिन के लिए काम रोका गया है.

और अब ये कंपनी इस जमीन पर बहुमंजिला फ्लैट, ऑफिस, दुकान और शॉपिंग कॉम्पलेक्स मंहगे दाम पर बेच रही है.

कंपनी के अधिकारी इस तरह की हवा बनाए हुए हैं कि समाजवादी पार्टी की नई सरकार में भी उनकी पकड़ मजबूत है.

पोंटी चड्ढा की इस कंपनी ने सिटी सेंटर की अपनी योजना का नक्शा नोएडा अथॉरिटी से पास कराए बिना ही जोरों से काम शुरू कर दिया.

लेकिन मंगलवार को नोएडा अथॉरिटी ने एक आदेश जारी करके सिटी सेंटर परियोजना का काम रोक दिया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.