तलवार दंपत्ति ने की आरुषि की हत्या: सीबीआई

आरुषि तलवार इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मई 2008 में आरुषि की हत्या हुई थी

आरुषि हत्याकांड की सुनवाई कर रही विशेष अदालत के सामने सीबीआई ने कहा है कि राजेश और नूपुर तलवार ने ही अपनी बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या की.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक विशेष अदालत में आरोप तय करने के लिए चल रही सुनवाई के दौरान सीबीआई के वकील आरके सैनी ने ये आरोप लगाए.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए आरके सैनी ने कहा कि तलवार दंपत्ति ने कुछ समय के अंदर ही दोनों को एक-एक करके मार दिया, क्योंकि इन दोनों की मौत के समय में ज्यादा अंतर नहीं है.

इतना ही नहीं उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि तलवार दंपत्ति ने आरुषि का गला काटकर उसकी हत्या की.

सीबीआई के वकील ने ये भी आरोप लगाया कि राजेश और नूपुर तलवार ने सबूत नष्ट करने की कोशिश की. उन्होंने बताया कि हत्या के बाद उन्होंने आरुषि के कमरे की दीवार को धोया, ताकि उस पर लगे खून के धब्बे साफ किए जा सके.

आरोप

Image caption राजेश इस समय जमानत पर हैं और नूपुर तलवार जेल में हैं

आरके सैनी ने अदालत को ये भी बताया कि तलवार दंपत्ति ने आरुष के बिस्तर की चादर बदली और दोनों ने आरुषि की पोस्टमार्टम रिपोर्ट बदलवाने की भी कोशिश की.

उन्होंने अदालत को बताया कि सीबीआई ने तलवार दंपत्ति के पड़ोसियों, कई लोगों और उत्तर प्रदेश पुलिस के बयान के आधार पर छह हजार पन्ने का दस्तावेज सबूत के रूप में तैयार किया है.

आरके सैनी ने ये भी आरोप लगाया कि अपराध करने के बाद राजेश और नूपुर तलवार भागना चाहते थे और उन्होंने जाँच के दौरान सीबीआई के साथ सहयोग नहीं किया.

अदालत ने बुधवार तक के लिए सुनवाई स्थगित कर दी है. अब तलवार दंपत्ति के वकील आरोप तय करने के बारे में अपनी दलील पेश करेंगे.

16 मई 2008 को आरुषि तलवार अपने कमरे में मृत पाई गई थी. जबकि उनके नौकर हेमरात का शव दूसरे दिन छत से बरामद किया गया था.

इस समय आरुषि के पिता राजेश तलवार जमानत पर है, लेकिन नूपुर तलवार गाजियाबाद की डासना जेल में बंद हैं.

संबंधित समाचार