रणवीर सेना के संस्थापक ब्रहमेश्वर सिंह की हत्या

caste war इमेज कॉपीरइट b
Image caption बिहार मे नब्बे के दशक में कई बार जातिगत लड़ाईयां हुई हैं. (फाइल फोटो)

बिहार में रणवीर सेना के संस्थापक माने जाने वाले ब्रहमेश्वर सिंह उर्फ बरमेसर मुखिया की अज्ञात हमलावरों ने गोली मार कर हत्या कर दी है.

मुखिया की मौत की ख़बर आते ही बवाल शुरु हो गया है और आरा शहर में क़ानून व्यवस्था की स्थित गंभीर बताई जा रही है.

जहां पर मुखिया को गोली मारी गई वहीं पास के एक हरिजन छात्रों के छात्रावास में आग लगा दी गई है और मुखिया के समर्थकों की भीड़ आरा की सड़कों पर जुट गई है.

बिहार के डीजीपी अभयानंद घटना स्थल पर पहुंच गए हैं और वहाँ उन्हें जनता के भारी आक्रोश का सामना करना पड़ा. इस दौरान उनके साथ धक्का मुक्की भी हुई. ब्रहमेश्वर सिंह के शव को पोस्टमार्टम के लिए आरा से सदर अस्पताल में ले जाया गया है जहाँ काफी लोग जमा हैं.

आरा शहर में हालात बेकाबू होते देख स्थानीय प्रशासन ने वहां कर्फ्यू लागू कर दिया है. खबर मिल रही है कि शहर में कई जगहों पर मुखिया के समर्थकों ने आगजनी की है.

राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद ने ब्रहमेश्वर सिंह की हत्या के लिये नीतीश सरकार की आलोचना की और कहा कि ब्रहमेश्वर सिंह बड़ा नाम थे चाहे वो जैसे भी रहे हों. उन्होंने कहा कि बिहार में कानून व्यवस्था की स्थिति बेकार है.

पटना के आला पुलिस अधिकारी आरा के लिए रवाना हो रहे हैं. अतिरिक्त पुलिस बल भी तैनात कर दिए गए हैं.

आरा स्टेशन पर पटना दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस पर पथराव भी किया गया है.

ब्रहमेश्वर सिंह बिहार का जाना माना नाम है और वो रणवीर सेना के कारण चर्चा में आए थे.

बिहार के जाति संघर्ष के दौर में ऊंची जातियों ने एक सेना का गठन किया था जिसे रणवीर सेना का नाम दिया गया था.

राज्य में अस्सी और नब्बे के दशक में हुए कई नरसंहारों में रणवीर सेना का हाथ माना जाता है.

हाल ही में ब्रहमेश्वर सिंह को बथानी टोला नरसंहार मामले में उस समय सज़ा नहीं हुई जब पुलिस ने कहा कि वो फरार हैं.

हालांकि उस समय मुखिया आरा जेल में थे. इस मामले में काफी विवाद हुआ था और मामला अभी भी कोर्ट में है.

ताजा जानकारी के अनुसार शुक्रवार तड़के अज्ञात हमलावरों ने ब्रहमेश्वर सिंह को गोली मार दी है.

यह घटना राज्य के आरा में हुई है जहां हमलावर मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए और ब्रहमेश्वर सिंह को निशाना बनाया.

अभी ये स्पष्ट नहीं है कि किन लोगों ने मुखिया को गोली मारी है लेकिन आशंका है कि इसके पीछे पुरानी दुश्मनी एक कारण हो सकता है.