ब्रहमेश्वर सिंह का अंतिम संस्कार पटना में

ब्रहमेश्वर सिंह इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption ब्रहमेश्वर सिंह रणवीर सेना के संस्थापक माने जाते हैं.

बिहार में रणवीर सेना के मुखिया ब्रहमेश्वर सिंह का अंतिम संस्कार पटना के बांस घाट पर किया जा रहा है.

हालांकि ब्रहमेश्वर सिंह की हत्या पटना से दूर आरा में हुई थी लेकिन उनके समर्थक उनका शव सड़क मार्ग से पटना ला रहे हैं.

आरा से लेकर पटना तक की 60 किलोमीटर की दूरी में बड़ी संख्या में लोग हिस्सा ले रहे हैं.

भारतीय जनता पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ सीपी ठाकुर ने बीबीसी को फोन कर के बताया कि वो ब्रहमेश्वर सिंह की शव यात्रा में शामिल हैं और इसमें पार्टी के तीन विधायक भी आए हैं. अन्य किसी भी राजनीतिक दल का कोई नेता इस शव यात्रा में शामिल नहीं हो रहा है.

इस बीच खबर मिली है कि ठाकुर के वाहन पर मुखिया समर्थकों ने हमला किया है. इस कारण वाहन के शीशे टूट गए.

शव यात्रा में शामिल भीड़ ने पुलिस के तीन वाहनों को नुकसान भी पहुँचाया. ये लोग बिहार प्रशासन हाय हाय के नारे लगा रहे थे.

पर्यवेक्षकों का कहना है कि मुखिया के समर्थक इस मामले को राजनीतिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं और इसे कुछ हलकों में जातिगत रंग भी दिया जा रहा है.

बिहार में जाति संघर्ष का इतिहास काफी पुराना है और ब्रहमेश्वर को एक जाति के लोग अपने हीरो के तौर पर देखते थे.

ब्रहमेश्वर सिंह भूमिहार किसानों की रणवीर सेना के संस्थापक माने जाते हैं और उन पर हत्या के कई मामले दर्ज थे.

सिंह की हत्या पर राजनीतिक प्रतिक्रिया भी हुई है. जहां लालू प्रसाद ने हत्या की आलोचना की है और कहा है कि राज्य में क़ानून व्यवस्था का नामोनिशान नहीं है.

वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सधी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि दोषियों को पकड़ा जाएगा.

माना जाता है कि ब्रहमेश्वर सिंह की हत्या के पीछे वामपंथी संगठन सीपीआई (माले) का हाथ हो सकता है क्योंकि रणवीर सेना की मुख्य लड़ाई माले से ही रही है.

पटना में अंतिम संस्कार को देखते हुए सुरक्षा के भी इंतजाम किए गए हैं. आरा में कल स्थिति तनावपूर्ण हो गई थी.

संबंधित समाचार