सीडब्ल्यूसी में सोनिया ने विपक्ष पर हमला बोला

Image caption सीडब्ल्यूसी की बैठक में कुछ कैबिनेट मंत्रियों के अलावा कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल थे

कांग्रेस पार्टी की महत्वपूर्ण इकाई कार्य समिति यानी सीडब्ल्यूसी की बैठक में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की सरकार की चुनौतियों पर चर्चा हुई.

पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी की बैठक को संबोधित करते हुए विपक्षी दलों की आलोचना की. हालांकि सोनिया गांधी ने टीम अन्ना का तो नाम नहीं लिया, लेकिन परोक्ष रूप से उनपर भी हमला बोला.

वैसे कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष को पूरा अधिकार है कि वे सरकार की आलोचना करे, लेकिन जिस रूप में वे प्रधानमंत्री और यूपीए सरकार पर हमला कर रहे हैं, वो दुर्भाग्यपूर्ण हैं.

सोनिया गांधी ने कहा कि वे लोग किसी साजिश के तहत हमारे खिलाफ अनर्गल आरोप लगा रहे हैं.

'उत्तर प्रदेश से सीख'

सीडब्ल्यूसी की बैठक में सोनिया गांधी ने देश के आर्थिक हालात पर भी चिंता व्यक्त की. उन्होंने कहा कि जिस तरह पिछले दिनों आर्थिक विकास की गति धीमी हुई है, वह हमारे लिए चिंता का सबसे बड़ा कारण है.

सोनिया गांधी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि जिस तरह उत्तर प्रदेश चुनाव में कांग्रेस पार्टी की पराजय हुई है, उससे सीख लेकर हमें हिमाचल प्रदेश और गुजरात में होने चुनाव की तैयारी शुरु कर देनी चाहिए.

पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि हमें इसका भी ध्यान रखना चाहिए कि अगले चुनाव को मात्र दो साल ही रह गए हैं.

सोनिया गांधी ने कहा, "अगर हम पार्टी के गुटबाजी करने की बजाय संगठन को मजबूत करने में समय लगाएं तो इससे काफी भला होगा."

हालांकि वो पार्टी और सरकार के क्रिया -कलाप से संतुष्ट भी थी. उन्होंने कहा,"जनता हमारे द्वारा किए गए कामों को देखेगी और उसी के आधार पर हमारे बारे में धारणा बनाएगी."

आने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी

Image caption सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी की बैठक की अध्यक्षता करते हुए विपक्षी दलों को आड़े हाथों लिया

सीडब्ल्यूसी की बैठक में अगले महीने होने वाले राष्ट्रपति पद नाम पर चर्चा होने की संभावना है.

बैठक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और वरिष्ठ मंत्रियों के अलावा विभिन्न राज्यों में पार्टी के मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष, विशेष आमंत्रित सदस्य और स्थायी आमंत्रित सदस्यों ने हिस्सा ले रहे हैं.

माना जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनावों की तैयारी को लेकर भी इस बैठक में बातचीत होगी.

कार्यसमिति की बैठक में इस वर्ष की शुरुआत में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन और कुछ महीनों बाद हिमाचल प्रदेश और गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी की तैयारियों पर भी चर्चा हुई.

संबंधित समाचार