भाजपा: सहमा राजा धमकाते सेनापति

नरेन्द्र मोदी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption नरेन्द्र मोदी एक और क्षेत्रीय नेता हैं जिनके आगे भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व को झुकना पड़ा है.

भाजपा में नरेन्द्र मोदी संजय जोशी प्रकरण से एक बार फिर केन्द्रित नेतृत्व की विवशता सार्वजनिक हो गई है.

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की नाराज़गी का शिकार बने संजय जोशी कहते रह गए कि उन्होंने पार्टी से नहीं महज़ अपनी ज़िम्मेदारी भर से इस्तीफ़ा दिया है लकिन पार्टी प्रवक्ता ने घोषणा कर दी कि "संजय जोशी को पार्टी से मुक्त कर दिया गया है."

दूसरे शब्दों में कहें तो पार्टी ने उन्हें निकाल बाहर किया है.

वरिष्ठ राजनितिक विश्लेषक प्रदीप कौशल कहते हैं कि इस पूरे प्रकरण से और कुछ नहीं बस केंद्रीय नेतृत्व या नितिन गडकरी की विवशता भर सामने आती है.

नरेंद्र मोदी संजय जोशी प्रकरण को मीडिया में अत्याधिक तूल भले ही मिला हो लेकिन नितिन गडकरी अध्यक्ष बनने के बाद से कई बार कद्दावर क्षेत्रीय नेताओं के आगे झुकते रहे हैं.

राजस्थान

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के विरोधी समझे जाने वाले गुलाब चंद कटारिया ने प्रदेश में मई में राज्य सरकार के खिलाफ़ जागरण यात्रा निकालने की घोषणा की.

उनकी इस घोषणा से जनता के पहले वसुंधरा राजे सिंधिया का गुस्सा जगा दिया.

केंद्रीय नेतृत्व की तमाम कठोर बातों और राष्ट्रिय स्वयंसेवक संघ के समर्थन के बावजूद कटारिया को झुकना पड़ा.

वजह थीं वसुंधरा राजे जिन्होंने पार्टी से इस्तीफ़ा देने की घोषणा कर दी.

वसुंधरा के साथ ही राजस्थान के अधिकांश विधायकों ने अपने इस्तीफ़े दे देने की धमकी दे डाली. हड़बड़ाए गडकरी को गुलाबचंद कटारिया को अपनी यात्रा को रद्द करने करने के लिए कहना पड़ा.

मध्य प्रदेश

नितिन गडकरी उमा भारती को पार्टी में लाने के लिए पूरे प्रयास करते रहे लेकिन मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के के कारण उमा भारती का आना टलता रहा.

आखिरकार बड़े मान मनुहार के बाद शिवराज सिंह ने उमा भारती को पार्टी में लाने पर अपनी रज़ामंदी तो दे दी लेकिन शर्त रख दी कि उमा भारती मध्य प्रदेश से दूर रहेगीं. इसी कारण से लंबे समय से वनवास काट रही मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को उत्तर प्रदेश से विधान सभा चुनाव लड़ने को मजबूर होना पड़ा.

हिमाचल

इमेज कॉपीरइट pti
Image caption पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व को वसुंधरा राजे सिंधिया के सामने भी झुकना पड़ा है.

पार्टी की तमाम परम्पराओं के खिलाफ हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के बेटे अनुराग ठाकुर को ना केवल लोकसभा का टिकट दिया गया बल्कि उन्हें भारतीय जनता युवा मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष भी बना दिया गया.

कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी के भीतर सबसे कद्दावर नेता बी एस येदियुरप्पा तमाम घोटालों और भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद तभी अपने पद से अपनी शर्तों पर अपने मनचाहे प्रत्याशी सदानंद गौड़ा को मुख्यमंत्री बनवा कर हटे.

इंडियन एक्सप्रेस अखबार के प्रदीप कौशल भी कहते हैं कि, "गडकरी की सामने सबसे बड़ी मजबूरी यह है कि उन्हें अगर अपना दूसरा कार्यकाल शुरू करना है तो इन ताकतवर क्षेत्रीय नेताओं की सामने झुकना ही होगा."

भारतीय जनता पार्टी के एक महत्वपूर्ण केंद्रीय नेता ने नाम ना बताने की शर्त पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का फ़ैसला 2014 में ही होगा उससे पहले कतई नहीं.

संबंधित समाचार