कर्नाटक:घूस मामले में निलंबित जज का बेटा गिरफ्तार

Image caption गैर कानूनी खनन को रोकना देश के सामने बड़ी चुनौती बन गई है

हैदराबाद में भ्रष्टाचार निरोधक दस्ते ने लोहे के अवैध खनन प्रकरण के अभियुक्त और कर्नाटक के पूर्व भाजपा मंत्री गाली जनार्धन रेड्डी को घूस लेकर जमानत देने के मामले में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया है.

इनमें जमानत देने वाले निलंबित जज पट्टाभि रामाराव के बेटे रवि चाँद और एक अवकाश प्राप्त जज चलपति राव शामिल हैं.

सीबीआई इस मामले में अभियुक्त जज और अन्य नौ व्यक्तियों के खिलाफ पहले ही मामला दर्ज कर चुकी है.

घूस लेकर जमानत

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption जनार्धन रेड्डी की जमानत के लिए जज को दस करोड़ रूपए घूस दी गई थी

इससे पहले, केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने इस बात का पता लगाया था कि मई के महीने में गाली जनार्धन रेड्डी को जमानत दिलाने के लिए सीबीआई की अदालत के जज को दस करोड़ रूपए घूस के रूप में दी गई थी.

बाद में सीबीआई ने इस मामले को छानबीन के लिए एंटी करप्शन ब्यूरो के हवाले कर दिया था.

शनिवार को एंटी करप्शन ब्यूरो ने हैदराबाद में पट्टाभी रामाराव के घर की तलाशी ली और उनके पुत्र रवि चाँद को गिरफ्तार कर लिया.

बाद में उन्हें उस बैंक ले जाया गया जहाँ उन्होंने कथित तौर पर घूस से मिली राशि लॉकर में रखी थी. लेकिन दिलचस्प बात यह है कि वो राशि भी वहां से गायब पाई गई.

सीबीआई इस मामले में पहले ही पांच करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि जब्त कर जब्त कर चुकी है.

दो जांच दल

एंटी करप्शन ब्यूरो के एक अन्य दल ने गुंटूर जिले के चिलकलुरिपेट में चलपति राव के घर पर भी छापा मारा और उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

दूसरा दल गाली के भाई सोमशेखर के घर पर तलाशी के लिए बेल्लारी गया हुआ है.

घूस मामले का पूरा ब्योरा उस समय सामने आया जब सीबीआई ने आन्ध्र प्रदेश हाई कोर्ट की अनुमति से जज की फोन पर होने वाली बातचीत सुनी.

सीबीआई की शिकायत पर हाई कोर्ट ने जज को निलंबित कर दिया और गाली जनार्धन रेड्डी की ज़मानत रद्द कर दी.

पिछले साल से गिरफ्तार गाली जनार्धन रेड्डी इस समय बेंगलुरु के जेल में बंद हैं, क्योंकि कर्नाटक के बेल्लारी जिले में अवैध खनन का एक मामला उन पर चल रहा है.

संबंधित समाचार