मैं राज्य सभा में चिल्लाऊंगा नहीं: सचिन तेंदुलकर

इमेज कॉपीरइट PTI

सांसद और मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि वह राज्य सभा में अपनी बात विनम्रता से रखेंगे.

आमतौर पर खामोश रहने वाले और अपने बल्ले से बात करने वाले सचिन तेंदुलकर ने साफ़ किया कि वे सदन में चीख-चिल्ला कर अपनी बात नहीं रखेंगे और विनम्रता के साथ मुद्दों को उठाएंगे.

सचिन तेंदुलकर ने हाल ही में बतौर राज्य सभा सांसद शपथ ली है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सचिन इस बात से बिलकुल भी इत्तेफाक नहीं रखते जैसा कि कई बार संसद में देखने को मिलता है और सांसद छिल्ला-चिल्ला कर अपनी बात सदन में पेश करते हैं.

शायद इसी को ध्यान में रखते हुए सचिन तेंदुलकर ने साफ किया है कि वह अपनी बात सदन के पटल पर रखने के लिए बिना शोर मचाए विनम्रता और शालीनता से रखेंगे.

उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता मुझे चिल्लाने की जरूरत पड़ेगी. उम्मीद भी है कि लोग मुझे चिल्लाने को मजबूर नहीं करेंगे. कोई सदन में आखिर क्यों चिल्लाएगा? आप अपनी बात सदन में विनम्रता से रख सकते हैं और उसके बाद जो होगा सो होगा."

शुभकामनाएं

साथ ही सचिन तेंदुलकर ने अगले महीने से लंदन में शुरू होने वाले ओलंपिक खेलों के लिए भी भारतीय दल को अपनी शुभकामनाएं दी हैं.

सचिन का कहना है कि भारतीय खिलाडियों को इन ओलंपिक खेलों में अपना बेहतरीन प्रदर्शन करना चाहिए जिससे वे देश का नाम रौशन कर सकें.

उन्होंने कहा, "मैं इश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि इन खिलाड़ियों को शक्ति दे जिससे वे अच्छा प्रदर्शन कर सकें. उन सभी ने पिछले कुछ वर्षों में काफी मेहनत की है और जाहिर है कि अपेक्षाएं भी हैं."

गौरतलब है कि राज्य सभा के नवनियुक्त सांसद सचिन तेंदुलकर ने शपथ लेने के तुरंत बाद कहा था कि उन्हें राजधानी दिल्ली में सरकारी घर की भी जरूरत नहीं है.

समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए एक बयान में सचिन ने कहा था कि वो सरकारी काम से जब दिल्ली आएंगे तो होटल में अपने खर्चे पर ही रहेंगे.

संसद की सदस्यता के लिए नामित किए जाने के बाद से ही सवाल उठते रहे है कि क्या सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के अपने व्यस्त कार्यक्रम के बीच संसदीय कार्य को समय दे पाएंगे.

संबंधित समाचार