प्रधानमंत्री ने कहा महसूस होगी प्रणब की कमी

प्रणब मुखर्जी इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption प्रणब मुखर्जी को पार्टी के भीतर के और विपक्ष के लोग चलता फिरता एंसाइक्लोपीडिया मानते हैं.

कांग्रेस कार्यसमिति ने कई सालों से कांग्रेस के 'संकटमोचक' कहे जाने वाले वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के लिए सोमवार को एक विदाई समारोह आयोजित किया जिसमें प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि प्रणब मुखर्जी के पार्टी में नहीं होने की कमी हमेशा महसूस होगी.

राष्ट्रपति पद के लिए अपनी उम्मीदवारी पेश करने की तैयारी कर रहे प्रणब मुखर्जी को समिति के सदस्यों ने भावुक माहौल में बधाई दी.

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) अध्यक्ष सोनिया गांधी भी इस विशेष बैठक में शामिल हुईं और प्रणब मुखर्जी के प्रति आभार व्यक्त किया. उन्होंने विश्वास जताया कि 19 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में प्रणब भारी मतों से जीतेंगे.

बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए कांग्रेस के प्रवक्ता जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि प्रणब मुखर्जी 28 जून को नामांकन दाखिल करेंगे.

मंगलवार को इस्तीफा संभव

प्रणब मुखर्जी सरकार से मंगलवार को इस्तीफा दे सकते हैं.

पार्टी में कई अहम पद संभाल चुके प्रणब मुखर्जी ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस के लिए जितना काम किया उससे ज्यादा उनको पार्टी से मिला.

भावुक दिख रहे प्रणब मुखर्जी ने कहा कि उन्होंने हमेशा वही किया जो पार्टी के लिए ठीक था.

प्रणब मुखर्जी वर्ष 1978 में पहली बार कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य बने और तभी से पार्टी में महत्वपूर्ण फैसले लेने में उनकी अहम भूमिका रही है.

बैठक में प्रणब मुखर्जी की पसंदीदा बंगाली मिठाई ‘सॉंदेश’ भी बांटी गई.

अपनी राजनीतिक समझबूझ और बुद्धिमता के लिए जाने जाते प्रणब मुखर्जी को उनकी पार्टी और विपक्ष के लोग चलता-फिरता एंसाइक्लोपीडिया मानते हैं.

संबंधित समाचार