असम में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बाढ़ से असम के 17 जिले बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. लगातार बारिश ने अब तक तीन लाख 83 हजार लोगों के जीवन पर असर डाला है

लगातार मूसलाधार बारिश से असम के कई जिलों में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ गई है. सैंकड़ों गांव और खेती की जमीन पानी की चपेट में आ चुके हैं. बाढ़ से अब तक दस लोगों के मरने की खबर है.

बुधवार सुबह केंद्रीय जल आयोग ने अपनी रिपोर्ट दी है. रिपोर्ट के अनुसार बाढ़ के कारण 17 जिले बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. लगातार हो रही बारिश ने अब तक तीन लाख 83 हजार लोगों के जीवन पर असर डाला है. हालांकि ब्रह्मपुत्र और उसकी सहयोगी नदियों में जलस्तर गिरा है लेकिन ये अब भी खतरे के निशान से उपर हैं.

असम के बाढ़ नियंत्रण मंत्री राजीव एल पेगो ने बीबीसी को बताया, “बेशक जल स्तर गिरा है लेकिन हालात चेतावनी भरे हैं. एयरफोर्स और एनडीआरएफ को राहत कार्यों में लगा दिया गया है. ”

अधिकारियों के अनुसार डिब्रुगढ़ और जोरहाट में पानी का स्तर गिरा है लेकिन धुब्री,ग्वालपारा,नागांव, करीमगंज, बगईगांव, नलबारी और कामरूम जिलों में यह बढ़ा है.माजुली द्वीप में 70 गांव डूब चुके हैं. प्रशासन ने राहत कार्यों के लिए एक पोत माजुली भेजा था लेकिन पानी के खतरनाक स्तर के कारण उसे लौटना पड़ा.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार काजीरंगा नेशनल पार्क में पानी भरने के कारण एक गैंडा बाहर आ गया और उसने छह लोगों को घायल कर दिया.

असम से सटे पश्चिम बंगाल के जलपाईगुडी और कूच बिहार जिले के कुछ हिस्सों में भी पानी का स्तर खतरे के निशान से उपर है. जलपायगुड़ी में बाढ़ के कारण एक व्यक्ति के मरने की खबर है.

संबंधित समाचार