जब भी ममता चाहें, बातचीत को तैयार हूं: प्रणव

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption प्रणव मुखर्जी समर्थन जुटाने के लिए राज्यों का दौरा कर रहे हैं.

राष्ट्रपति पद चुनाव में अपने लिए समर्थन जुटाने निकले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की ओर से उम्मीदवार प्रणव मुखर्जी ने कहा है कि वो तृणमूल कांग्रेस से समर्थन मांगने के लिए बातचीत को तैयार हैं.

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता पहुंचे प्रणव मुखर्जी से जब संवाददाताओं ने पूछा कि क्या वो ममता बनर्जी से समर्थन मांगने संबंधी पत्र लिखेंगें. इस सवाल के जवाब में प्रणव मुखर्जी ने कहा कि ममता बनर्जी जब भी चाहें वो उनसे बातचीत को तैयार हैं.

दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस के नेता सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि प्रणव को ममता बनर्जी को फोन कर पूछना चाहिए कि वो उनसे बात करना चाहती हैं या नही और इसके लिए उन्हें किसी मध्यस्थ की जरुरत नही है.

महत्वपूर्ण है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता ने प्रणव मुखर्जी की उम्मीदवारी का विरोध किया था और पूर्व राष्ट्रपति कलाम का समर्थन में मुहिम चलाई थी

पर कलाम ने राष्ट्रपति पद के लिए इनकार कर दिया था.

सभी से समर्थन की उम्मीद

ममता से समर्थन की उम्मीद पर प्रणव मुखर्जी ने कहा कि उनकी उम्मीदवारी की घोषणा यूपीए की ओर से किया गया है, इसलिए गठबंधन के सभी दलों का समर्थन मिलने की उम्मीद है.

कांग्रेस के विधायकों से मुलाकात करने के बाद प्रणव मुखर्जी ने कहा, 'मैं समझता हूं कि तृणमूल कांग्रेस ने अभी तक इस बारे में कोई फैसला नहीं किया है. और मुझे उम्मीद है कि जब वो फैसला लेगी तो वो मुझे समर्थन देगी.'

प्रणव ने इस बारे में और किसी सवाल का जवाब देने से इऩकार कर दिया.

प्रणव ने कहा कि वह अलग-अलग राज्यों की राजधानियों का दौरा उन दलों के नेताओं और सदस्यों का आभार व्यक्त करने के लिए कर रहे हैं जिन्होंने उनकी उम्मीदवारी का समर्थन किया है.

प्रणव ने कहा कि एक को छोड़कर यूपीए के सभी दलों ने उनकी उम्मीदवारी को अपना समर्थन दिया है और एसपी, बीएसपी, आरजेडी, सीपीएम, फॉरवर्ड ब्लॉक, जेडी(यू), शिवेसना और कुछ अन्य क्षेत्रीय पार्टियों का समर्थन भी उन्हें मिला हुआ है.

संबंधित समाचार