खाप महापंचायत: कन्या भ्रूण हत्या पर हत्या का मामला चले

कन्या भ्रूण हत्या के ख़िलाफ़ अभियान इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption कई अभियानों के बावजूद कन्या भ्रूण हत्या पर रोक नहीं लग पा रही है

आमतौर पर खाप पंचायतें अपने नकारात्मक फैसलों की वजह से बदनाम होती आई हैं लेकिन शनिवार को खाप महापंचायत ने एक ऐसा फैसला लिया जो उसकी छवि के एकदम विपरीत था.

हरियाणा के जींद जिले के बीबीपुर गाँव में खाप महापंचायत ने एक प्रस्ताव पारित करके कहा है कि कन्या भ्रूण हत्या करने वाले के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाना चाहिए.

खाप महापंचायत ने केंद्र सरकार से इस बारे में कानून बनाने की मांग की है.

बीबीपुर में हुए इस खाप महापंचायत में हरियाणा के अलावा उत्तर प्रदेश और दिल्ली की कोई 150 खाप पंचायतों और जातीय परिषदों ने हिस्सा लिया.

इस महापंचायत में हिस्सा लेने वालों में बड़ी संख्या महिलाओं की भी थी.

इसमें ये भी फैसला लिया गया कि कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ अभियान भी चलाया जाएगा.

शनिवार को लिया गया ये फैसला हरियाणा में पुरुषों की तुलना में महिलाओं की घटते अनुपात की चिंता से उपजा दिखता है.

जहाँ देश में प्रति 1000 पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या औसतन 911 है वहीं हरियाणा में ये आंकड़ा 877 है.

ये कई बार खबरों में आ चुका है कि हरियाणा में लड़कियों की संख्या इतनी कम हो चुकी है कि वहाँ विवाह के लिए दूसरे प्रदेशों से लड़कियाँ लानी पड़ रही हैं.

पिछले दिनों आमिर ख़ान ने अपने कार्यक्रम सत्यमेव जयते में भी इस मामले को उठाया था.

संबंधित समाचार