हम गाली-प्रूफ हो गए हैं: रामदेव

रामदेव इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption रामदेव ने कहा कि वे गांधीवाद और क्रांतिवाद को साथ में लेकर आगे बढ़ रहे हैं

हम गोली-प्रूफ तो हैं नहीं लेकिन हम गाली-प्रूफ हो गए हैं.

यह कहना है योग गुरु रामदेव का जिन्होंने भ्रष्टाचार और काले धन के मुद्दे पर दिल्ली के रामलीला मैदान पर फिर अपना आंदोलन शुरू कर दिया है.

गुरुवार शाम को जन सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ''कुछ लोग बुलेट-प्रूफ जैकेट पहनते हैं. आजकल फायर-प्रूफ जैकेट भी आ गए हैं. वतन के लिए हमने यह निश्चय कर लिया है कि सुबह से शाम तक चाहे हमें कोसा जाए, कितना भी तिरस्कार किया जाए...हम तो गाली प्रूफ हो गए हैं.''

उन्होने कहा कि वे गांधीवाद और क्रांतिवाद को साथ में लेकर आगे बढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि पहले वह 'शांति की भाषा' में बात करेंगे.

रामदेव ने कहा, ''तीन दिन शांति की साधना करेंगे...फिर जब शांति की भाषा नहीं सुनी जाएगी तो क्रांति की भी हुंकार दी जाएगी.''

उन्होंने कहा कि आंदोलन के पहले चरण में वे शुक्रवार से तीन दिन का अनशन करेंगे.

मांगें

रामदेव ने अनशन की शुरुआत करते हुए कहा था कि 'ब्लैक मनी' वापस लाने के साथ उनकी तीन प्रमुख मांगें हैं जिनमें से पहली यह है कि मजबूत लोकपाल बिल लाया जाए.

उन्होंने कहा कि दूसरी मांग सीबीआई को स्वतंत्र रखने की है और तीसरी यह कि निर्वाचन आयोग, सीएजी, सीवीसी और सीबीआई डायरेक्टर की नियुक्ति को और अधिक पारदर्शी बनाया जाए.

बाबा रामदेव ने इससे पहले कहा कि उनके आंदोलन में सभी राजनीतिक दलों का भी स्वागत है.

उन्होंने कहा कि उनका किसी दल से बैर नहीं और उनका आंदोलन किसी व्यक्ति या पार्टी के खिलाफ नहीं है.

पिछले दिनों जंतर-मंतर पर टीम अन्ना का अनशन कोई ज्यादा कामयाब नहीं रहा था.

संबंधित समाचार