अजमल कसाब ने अबू जंदल 'को पहचाना'

 शुक्रवार, 10 अगस्त, 2012 को 08:07 IST तक के समाचार

कसाब और जंदल के साथ मुंबई की क्राइम ब्रांच ने पूछताछ की. तस्वीर एएफ़पी

मुंबई में 26/11 हमलों के अभियुक्त अजमल कसाब और अबुं जंदल गुरुवार शाम मुंबई की आर्थर रोड जेल में आमने-सामने हुए.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने पुलिस सूत्रों के हवाले से लिखा कि इस मुलाक़ात में कसाब ने जंदल को मुंबई पर उन हमलों के 'मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक बताया.'

कसाब और जंदल को एक दूसरे के सामने लाने के लिए महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बाद मुंबई की क्राइम ब्रांच ने दोनों को आमने-सामने किया.

पीटीआई के मुताबिक दोनों की एक साथ लगभग डेढ़ घंटे तक पूछताछ चली जिसमें कसाब ने जंदल को पहचाना.

मुंबई की इस उच्च सुरक्षा प्रबंध वाली जेल में कसाब दिसंबर 2008 से बंद है.

सईद जबीउद्दीन उर्फ अबू जंदल को जून में दिल्ली हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस का कहना था कि पूछताछ के बाद मुंबई हमलों की काफी गुत्थियां सुलझी थीं मसलन मुंबई पर हमला करने वालों को किसने, कहां ट्रेनिंग दी थी. कंट्रोल रूम में कौन-कौन था और कंट्रोल रूम कैसे काम कर रहा था.

जंदल की भूमिका

सैयद जबुउद्दीन को मुंबई में 26/11 को हुए चरमपंथी हमले का प्रमुख हैंडलर माना जा रहा है. उसकी गिरफ्तारी के बाद तत्कालीन गृहमंत्री पी चिदंबरम ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि जंदल हमले के दौरान लश्कर-ए-तैबा के मुखिया हाफिज सईद के साथ पाकिस्तान में उस कंट्रोल रूम में मौजूद था.

जंदल के खुलासे के बाद मुंबई पुलिस ने उसे कसाब के सामने लाने की अनुमति मांगी थी.

26 नवंबर 2008 की रात कुछ हथियारबंद लोगों ने मुंबई में ताज होटल पर हमला किया था जिसमें 166 लोग मारे गए थे जबकि 250 से अधिक घायल हुए थे.

इन हमलों में पहले ही अजमल कसाब दोषी करार दिए जा चुके हैं और उन्हें फांसी की सजा सुनाई गई है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.