चोरी करो डकैती नहीं: अब शिवपाल की सफाई

इमेज कॉपीरइट PTI

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव ने भ्रष्टाचार कम करने और सरकारी महकमे की खराब होती छवि को सुधारने के लिए सरकारी बाबुओं को ऐसी सीख दे डाली जो खुद उन पर भारी पड़ गई है.

राज्य के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने ज़िला योजना समिति की बैठक में सरकारी बाबुओं को संबोधित करते हुए कहा, ''मैं हमेशा पीडब्लूडी के कांट्रेक्टरों से कहता हूं अगर मेहनत करोगे, जी-जान लगाओगे तो थोड़ी चोरी कर सकते हो, लेकिन डकैतों की तरह व्यवहार मत करो.''

शिवपाल ने यहां तक कहा कि उनका ये बयान अखबारों के लिए नहीं हैं, नहीं तो लोग ये समझेंगे कि सरकार लूट का लाइसेंस दे रही है.

मगर शिवपाल का ये बयान मीडिया में जारी हो गया जिसके बाद शुक्रवार को उन्होंने मामले में स्पष्टीकरण भी देने की कोशिश की.

उन्होंने कहा, ''उस बैठक में भ्रष्टाचार पर खुल कर बहस हो रही थी और हम ये निर्देश दे रहे थे कि चोरी कैसे रोकी जाए. पहली बात तो ये कि मीडिया को बैठक में इस तरह घुसना नहीं चाहिए था. दूसरी बात ये कि हमने कहा कि किसी भी कीमत पर गुणवत्ता से खिलवाड़ नहीं होनी चाहिए इस बात को आपने जारी नहीं किया.''

बाबुओं की चुप्पी

शिवपाल यादव के इस बयान पर जहां एक ओर उन बाबुओं ने पूरी तरह चुप्पी साध ली है जो इस बैठक में मौजूद थे वहीं विपक्षी दलों के बीच हंगामा मच गया है.

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालजी टंडन ने इस बयान की निंदा करते हुए कहा है कि किसी सरकार का कोई मंत्री अगर इस तरह की बात करता है तो ये सरकार द्वारा घूसखोरी को लाइसेंस दिए जाने जैसा है.

इसी विवाद के चलते शिवपाल यादव ने तुरत-फुरत एक प्रेस कॉंन्फ्रेंस कर इस बयान पर अपनी सफाई पेश की.

शिवपाल ने कहा कि वो पिछली सरकार द्वारा किए गए भ्रष्टाचार पर रोक लगाने की कोशिश कर रहे हैं और व्यवस्था को सुधारने के लिए कहीं से तो शुरुआत करनी होगी.

संबंधित समाचार