भारत में बन रही ब्रितानी 'पेल एल' बीयर

 मंगलवार, 28 अगस्त, 2012 को 08:36 IST तक के समाचार

भारत में बीयर से ज्यादा व्हिस्की लोकप्रिय है

इंग्लैंड की विशेष तरह की बीयर 'पेल एल' अब भारत में भी लोकप्रिय हो रही है.

'पेल एल' आम बीयरों से ज्यादा नशीली होती है और इंग्लैंड में इसे ठंडे के बजाए गर्म पीना पसंद किया जाता है.

लगभग 200 साल पहले इंग्लैंड ने भारतीय उपमहाद्वीप में पेल एल को निर्यात करना शुरु किया था, लेकिन ये बीयर लोगों को ज्यादा पसंद नहीं आई थी.

लेकिन गुड़गांव के कई बीयर बार में अब ये दुबारा नज़र आने लगी है.

इस बीयर को बनाने के लिए गुडगांव में कई माइक्रोब्रूअरी खुल गए हैं.

भारत में ज्यादातर किंगफिशर जैसी 'लागर' बीयर पंसद की जाती है लेकिन इंडियन पेल एल या भारतीय पेल एल का स्वाद भी लुभाने लगा है.

व्हिस्की बनाम बीयर

भारत में लोगों को बीयर की बजाए व्हिस्की पीना पसंद है. घरेलू व्हिस्की खूब पी जाती है और जो खर्च सह सकते हैं वो महंगी विदेशी व्हिस्की पीना पसंद करते हैं.

"भारत बीयर पीने वाला देश नहीं है. हमें शराब पसंद है और जब शाम होती है तो लोग व्हिस्की पीते हैं"

पेय पदार्थ पर लिखने वाले भाईचंद पटेल

इसके अलावा निर्धन लोग अवैध कच्ची शराब खरीदते हैं जिससे साल में कई लोगों की मौत भी हो जाती है.

बारत में शराब पीने पारंपरिक रूप से गलत माना जाता है- कई राष्ट्रीय छुट्टियो पर शराब की बिक्री नहीं होती है और चार राज्यों में शराब की बिक्री पर प्रतिबंध है.

लेकिन इसके बावजूद लोगों को नजरिया बदल रहा है और पैसा आने के साथ नए स्वाद लेने का शौक भी बढ़ रहा है.

गुडगांव में काम करने वाले युवाओं में पेल एल पीने का प्रचलन बढ़ रहा है.

इंडियन पेल एल

पेल एल इंग्लैंड में पसंद किया जाता है

डाउनटाउन बार के मालिक विकास सचदेवा विशुद्ध भारतीय पेल एल बनाने का विचार लेकर आए.

उन्होंने इंटरनेट पर इसे बनाने की विधि पढ़ी और अपने ब्रूअर गगन जैन के साथ मिलकर फॉर्मूला तैयार किया.

सचदेवा ने लगभग दो लाख डॉलर खर्च कर इसे बनाने के लिए जरूरी टैंक और यंत्र मंगवाए हैं.

ये बीयर पूराने पेल एल के मुकाबले तो कमज़ोर है और इसे गरम के बजाए ठंडा पेश किया जाता है.

पेल एल पीने वाले मानते हैं कि यहां के मौसम के लिए ठंडा ही ठीक रहेगा.

लेकिन ये बीयर भारत में कितना लोकप्रिय होगा इसपर लोगों को संदेह है.

शराब औऱ दूसरे पेस पदार्थों पर लिखने वाले भाईचंद पटेल कहते हैं, "भारत बीयर पीने वाला देश नहीं है. हमें शराब पसंद है और जब शाम होती है तो लोग व्हिस्की पीते हैं."

लेकिन पटेल कहते हैं कि भारत की जनसंख्या को देखते हुए अगर एक प्रतिशत लोग भी बीयर पीना पसंद करते हैं तो ये बड़ा बाज़ार है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.