धार्मिक मामलों से दूर रहे सरकार: गिलानी

 रविवार, 2 सितंबर, 2012 को 04:31 IST तक के समाचार
सैयद अली शाह गिलानी

गिलानी ने मंगलवार को बंद की कॉल दी है

भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर में अलगाववादियों ने राज्य सरकार को धमकी दी है कि वो हिंदू और मुसलमान, दोनों के धार्मिक मामलों से अलग रहे.

वरिष्ठ अलगाववादी नेता सैयद अली शाह ने सरकार पर सांप्रदायिक तत्वों को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा, “हम पिछले 145 वर्षों से अमरनाथ गुफा तक हिंदुओं की तीर्थयात्रा करा रहे हैं. लेकिन अब इसे राजनीतिक रंग दिया जा रहा है और हम ऐसा नहीं होने देंगे.”

उन्होंने मस्जिदों और दरगाहों के प्रबंधन से संबंधित मामलों को देखने वाले मुस्लिम वक्फ बोर्ड को भी खत्म करने की मांग की.

उन्होंने कहा, “हमें धर्मनिरपेक्ष कानूनों के नाम पर सबसे ज्यादा सांप्रदायिकता झेलनी पड़ रही है. अगर राज्य स्वतंत्र है तो धार्मिक मामले लोगों के हाथों में होने चाहिए.”

बंद का आह्वान

"हमें धर्मनिरपेक्ष कानूनों के नाम पर सबसे ज्यादा सांप्रदायिकता झेलनी पड़ रही है. अगर राज्य स्वतंत्र है तो धार्मिक मामले लोगों के हाथों में होने चाहिए."

सैयद अली शाह गिलानी, अलगाववादी नेता

83 वर्षीय गिलानी ने कहा कि वार्षिक अमरनाथ यात्रा की जिम्मेदारी स्थानीय हिंदू पंडितों को सौंप दी जानी चाहिए और मस्जिदों और दरगाहों पर सरकारी नियंत्रण को भी खत्म किया जाना चाहिए.

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले की भी आलोचना की जिसमें स्थानीय प्रशासन से कहा गया है कि वो समुद्र तल से 13,500 फीट ऊंचाई पर स्थित अमरनाथ गुफा तक पक्की सड़क बनाए.

गिलानी ने अपनी इस मांग के समर्थन में मंगलवार को बंद का आह्वान किया है.

2008 में अमरनाथ श्राइन बोर्ड को लगभग 100 एकड़ जमीन देने के राज्य सरकार के फैसले पर घाटी में भारत विरोधी प्रदर्शन भड़क उठे थे जो अगस्त 2011 तक चले. इस दौरान होने वाली हिंसा में लगभग 200 लोग मारे गए थे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.