कोलगेट: सीबीआई ने पांच एफ़आईआर दर्ज किए

 मंगलवार, 4 सितंबर, 2012 को 11:25 IST तक के समाचार

सीबीआई ने 10 शहरों में छापे मारे हैं.

सीबीआई ने कोयला आवंटन मामले में धोखाधड़ी के आरोप में पांच एफ़आईआर दर्ज किए हैं, जिनमें कंपनी, कंपनियों के मालिक, कोयला मंत्रालय के अज्ञात अधिकारी और राज्य सरकार के अधिकारी शामिल हैं.

क्लिक करें 'कोलगेट' तह में छिपे सवालों के जवाब

सीबीआई ने मीडिया को जारी किए एक एसएमएस के जरिए बताया कि 10 शहरों में कम से कम 30 जगहों पर छापे डाले जा रहे हैं.

इन शहरों में कोलकाता, पटना, हैदराबाद, धनबाद, नागपुर, दिल्ली और मुंबई शामिल हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि सीबीआई ने झारखंड, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक में कोयला का आवंटन लेने वाले कुछ कंपनियों के पुराने कामकाज की भी जांच की है.

आरोप है कि ऐसी कुछ कंपनियों को सिर्फ क्लिक करें कोयले के ब्लॉक हासिल करने के लिए स्थापित किया गया था और इसे मिलने के बाद उसे दूसरी कंपनियों को बड़ी प्रीमियम पर किराए पर दे दिया जाता था.

रिपोर्ट के मुताबिक सीबीआई ने 2005-09 के दौरान कोयला आवंटन में भूमिका निभाने वाले वरिष्ठ अधिकारियों से भी पूछताछ की है.

पूछताछ

पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि कोयला सचिवों से पूछताछ में ये जानने की कोशिश की गई की 2005-09 के दौरान कोयला ब्लॉक के आवंटन में क्या मुद्दे थे.

एजेंसियों के मुताबिक इस पूछताछ में सीबीआई ने अभी किसी गडबड़ी को नहीं पाया है.

इससे पहले सोमवार को सरकार ने कोयला ब्लॉक के आवंटनो को एक सिरे से खारिज करने से मना कर दिया था.

उधर इस मामले पर क्लिक करें संसद की कार्यवाही भी प्रभावित हुई है.

भाजपा का कहना है कि अगर मनमोहन सिंह सरकार कोयला ब्लॉकों के आवंटन को रद्द नहीं करती और एक 'स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच के आदेश नहीं देती है' तो भाजपा संसद के मॉनसून सत्र के ख़त्म होने के बाद देशव्यापी आंदोलन शुरू करेगी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.