क्या वाकई ज्ञान ही सारे सपने सच कराता है

 शुक्रवार, 7 सितंबर, 2012 को 15:31 IST तक के समाचार
केबीसी में सुशील कुमार

'कौन बनेगा करोड़पति' का नया सीज़न सात सितम्बर से शुरू हो रहा है

ज्ञान ही आपके सारे सपने सच कराता है, जो मेरे साथ हुआ, उस हिसाब से तो ये बात सौ फीसद सही है.

क्लिक करें 'कौन बनेगा करोड़पति' कार्यक्रम के बारे में तो ये बात और भी सटीक है कि जो जितना जानकार होगा, वो उतना ही धन अर्जित करके लाएगा.

दुनिया के मामले में भी यही बात लागू होती है.

मैंने क्लिक करें सिविल सर्विस की परीक्षा दी, लेकिन मैं फेल हो गया. फेल होने की वजह ये थी मैंने तैयारी नहीं की.

जबसे 'कौन बनेगा करोड़पति' जीता, तबसे यहां-वहां फीता काटता रहा और पढ़ने का मौका नहीं मिला.

तैयारी के लिए दिल्ली गया, दो-तीन महीने वहां रहा. लेकिन वहां भी लोग मिलने आते रहे और बधाई देते रहे.

परीक्षा देकर आया तभी समझ आ गया कि पास नहीं होने वाला हूं.

करोड़पति और ज्ञान का रास्ता

कह सकते हैं कि जिस ज्ञान ने करोड़पति बनाया, उसी इनाम ने ज्ञान के रास्ते से अलग कर दिया.

लेकिन मैं अभी भी पढ़ रहा हूं क्योंकि पढ़ाई के प्रति मेरा जुड़ाव बचपन से ही है और ये मरते दम तक बना रहेगा.

यूपीएससी के लिए मेरी उम्र हो गई है, आगे मैं ये परीक्षा नहीं दे पाऊंगा. अब मैं लेक्चरशिप की तैयारी कर रहा हूं. मेहनत कर रहा हूं, शायद साल भर के भीतर नतीजा आ जाए.

क्लिक करें मोतिहारी के लोगों में 'कौन बनेगा करोड़पति' के लिए बड़ा उत्साह है. कई लोगों ने ऑडिशन दिया था, लेकिन अभी पता नहीं चला कि किसका हुआ है.

कुछ लोगों को उम्मीद है कि उन्हें बुलाया जाएगा. यही लोग मुझसे टिप्स लेने के लिए आते हैं. मैं यही कहता हूं कि निराश मत होइए, ईश्वर में भरोसा रखिए और पढ़ते रहिए.

पहले मेरे पास टीवी नहीं होता था, अब तो जनरेटर भी है, तो अब जनरेटर चलाकर कौन बनेगा करोड़पति देखेंगे.

(बीबीसी संवाददाता रूपा झा से बातचीत पर आधारित)

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.