समंदर के रास्ते घुस सकते हैं चरमपंथी: पीएम

 शनिवार, 8 सितंबर, 2012 को 13:22 IST तक के समाचार

प्रधानमंत्री मनमोहन राज्य के पुलिस प्रमुखों को संबोधित कर रहे थे

भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि चरमपंथी गुट देश में दाखिल होने के लिए समंदरी रास्तों का इस्तेमाल करने की कोशिश कर सकते हैं.

नई दिल्ली में राज्य पुलिस, केंद्रीय अर्धसैनिक बलों और गुप्तचर एजेंसियों के प्रमखों की बैठक को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने जम्मू कश्मीर में घुसपैठ बढ़ने की ओर भी इशारा किया.

उन्होंने कहा, “जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा और यहां तक कि अंतरराष्ट्रीय सीमा के पार से घुसपैठ की कोशिशों में वृद्धि देखने को मिल रही है. ऐसे भी संकेत मिल रहे हैं कि आतंकवादी गुट समंदरी रास्ते को इस्तेमाल करने की क्षमता रखते हैं. इसलिए न सिर्फ जमीनी सीमा पर बल्कि तटीय मार्गों पर भी सतर्कता बढ़ानी होगी.”

सुरक्षा चुनौतियां

हालांकि उन्होंने जम्मू कश्मीर में हालात सुधरने की बात भी कही और इसका श्रेय पुलिस और सुरक्षा बलों को दिया.

मनमोहन सिंह के मुताबिक, “राज्य के सुरक्षा परिदृश्य में हो रहे सुधार का ही नतीजा है कि इस साल अमरनाथ यात्रा सफल रही और इसके अलावा राज्य में रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक भी पहुंचे हैं.”

मनमोहन सिंह ने कहा है कि एसएमएस और सोशल मीडिया के ज़रिए हाल ही में किया गया प्रचार देश के सामने एक नई चुनौती है और हमें इसका मुक़ाबला करना होगा.

मनमोहन सिंह ने कहा, "हमें ये बात समझनी होगी कि समाज में अव्यवस्था पैदा करनेवाले लोग सोशल मीडिया का कैसे ग़लत इस्तेमाल कर सकते हैं. हमें ऐसी व्यवस्था बनानी होगी जिससे ऐसी अफवाहों को कारगर तरीक़े से नियंत्रित किया जा सके."

प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि आनेवाले महीनों में देश की पुलिस एक ऐसा ढांचा तैयार कर लेगी जिससे सोशल मीडिया के ग़लत इस्तेमाल को नियंत्रित किया जा सकेगा.

प्रधानमंत्री ने ये भी कहा कि सरकार एक नया सुरक्षा ढांचा तैयार कर रही है जिससे साइबर सुरक्षा को होनेवाले ख़तरे से निबटा जा सके.

इसके साथ ही उन्होंने नक्सलवाद के फैलते ढांचे पर भी चिंता जताई.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.