ठाकरे ने लिया सुषमा का नाम तो मचा बवाल

 रविवार, 9 सितंबर, 2012 को 16:32 IST तक के समाचार
बाल ठाकरे

'सामना' में रविवार को छपे अपने लंबे इंटरव्यू के तीसरे भाग में बाल ठाकरे ने यह बयान दिया.

एनडीए के प्रमुख घटक शिवसेना के सुषमा स्वराज को प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे योग्य उम्मीदवार बताने से देश की राजनीति गर्मा गई है.

शिवसेना के प्रमुख बाल ठाकरे ने कहा था कि लोक सभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ही भारतीय जनता पार्टी में एकमात्र नेता हैं जो प्रधानमंत्री बनने के लायक हैं.

बीजेपी इस बयान के बाद अपना बचाव करती नजर आई. उसने कहा कि प्रधानमंत्री का फैसला साल 2014 में होने वाले लोक सभा के चुनाव के बाद किया जाएगा.

एनडीए के बाकी सहयोगी दलों ने कहा कि अभी इस का समय नहीं आया है जबकि कांग्रेस ने मौका का फायदा उठाते हुए बीजेपी पर वार करते हुए कहा कि इससे पता चलता है कि पार्टी में कितनी फूट है.

शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में रविवार को छपे अपने लंबे इंटरव्यू के तीसरे भाग में बाल ठाकरे ने कहा, ''इस समय केवल एक ही व्यक्ति है जो बुद्धिमान और प्रतिभाशाली है--सुषमा स्वराज.''

वे इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि बीजेपी में किसे प्रधानमंत्री होना चाहिए.

'योग्य और बुद्धिमान'

बाल ठाकरे

"मैंने यह कई बार कहा है...वे प्रधानमंत्री के पद के लिए बढ़िया विकल्प होंगी. वे योग्य, बुद्धिमान महिला हैं. वे बढ़िया प्रदर्शन करेंगी.'"

उन्होंने कहा, ''मैंने यह कई बार कहा है...वो प्रधानमंत्री के पद के लिए बढ़िया विकल्प होंगी. वो योग्य, बुद्धिमान महिला हैं. वो बढ़िया प्रदर्शन करेंगी.''

बीजेपी के नेता बलबीर पुंज से जब ठाकरे के बयान पर पूछा गया तो ठाकरे ने कहा, ''हमारी पार्टी में अनेक नेता हैं जो देश का नेतृत्व कर सकते हैं.''

कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, ''एनडीए लोगों के फैसले का इंतज़ार किए बिना ही प्रधानमंत्री बनाने लग जाते हैं.''

इस सवाल के जवाब में कि क्या बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन मजबूत है तो ठाकरे ने कहा, ''अब मैं मजबूत शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकता. सोच बदल गई है, व्यक्तिगत लड़ाईयां हैं, पार्टियों की लड़ाईयां हैं. पहले के एनडीए में वाजपेई जैसे नेता थे, अब ऐसा कोई नेतृत्व नहीं है. लेकिन मैं एनडीए की बात कर रहा हूं, न कि बीजेपी की.''

बयान का मतलब

वरिष्ठ पत्रकार नीरजा चौधरी का कहना है कि ठाकरे का ये बयान दो बातें बता रहा है.

उनका कहना है, ''एक ये कि एनडीए आज सत्ता को सूंघ पा रहा है, उन्हें ये संभावना दिख रही हैं कि वो सत्ता में आ सकते हैं.दूसरा ये कि उसे के मद्देनज़र प्रधानमंत्री के नाम पर पोजिशनिंग शुरु हो गई है.''

उन्होंने कहा, ''दूसरा शिवसेना का ये कहना कि सुषमा स्वराज बेहतर हैं, कहीं ना कहीं वो ये जताना चाह रहे हैं कि वो मोदी की उम्मीदवारी को नहीं मानेंगे. तो कहीं ना कहीं 2014 के लिए तैयारियां शुरु हो गई है.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.