हिमाचल में सड़क हादसे में 35 के मरने की आशंका

 मंगलवार, 11 सितंबर, 2012 को 12:24 IST तक के समाचार
हिमाचल प्रदेश में सड़क हादसा

ये सड़क हादसा राजधानी शिमला से 250 किमी दूर कांगड़ा घाटी में हुआ है.

हिमाचल प्रदेश में हुए एक सड़क हादसे में कम से कम 35 लोगों के मारे जाने की आशंका है.

ये हादसा हिमाचल प्रदेश के उत्तरी इलाके में हुआ है.

ये हादसा राजधानी शिमला से करीब 250 किलोमीटर दूर कांगड़ा घाटी के पास तब हुआ जब सवारियों से भरी एक बस हाइवे से गहरी घाटी में जा गिरी.

ऐसी ही एक दुर्घटना पड़ोसी देश नेपाल में भी हुई है जिसमें 28 लोगों की मौत हो गई है.

खराब यातायात व्यवस्था और गाड़ियों की बुरी हालत के कारण दोनों देशों में इस तरह के सड़क हादसे होना आम बात है.

हिमाचल प्रदेश में हुए हादसे में सरकारी परिवहन विभाग की बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई है. ये हादसा पालमपुर से आशापुरी के रास्ते में सोमवार देर रात हुआ है.

हादसे के दौरान बस में 45 यात्री सवार थे.

वजह

इस दुर्घटना से ज़िंदा बचकर निकले एक यात्री के अनुसार, ''हादसा बस ड्राइवर के संतुलन खोने की वजह से हुआ है. जिसके बाद बस गहरी खाई में जा गिरी.''

दुनिया भर में सबसे ज्य़ादा सड़क दुर्घटनाएँ भारत में होती हैं.

यहां हर साल सड़क हादसों में एक लाख 10 हज़ार से ज्य़ादा लोगों की मौत हो जाती है और इसका कारण लापरवाह ड्राइविंग के अलावा सड़कों और गाड़ियों की खस्ता हालत को दिया जाता है.

"भारत में हर साल सड़क हादसों में एक लाख 10 हज़ार से ज्य़ादा लोगों की मौत हो जाती है और इसका कारण लापरवाह ड्राईविंग के अलावा सड़कों और गाड़ियों की खस्ता हालत को दिया जाता है."

नेपाल में बस हादसा पश्चिम में पहाड़ियों से घिरे ज़िले कालीकोट के पास हुआ है. स्थानीय मीडिया के अनुसार ये हादसा तड़के सुबह तब हुआ जब यात्रियों से भरी ये बस नदी में जा गिरी.

कालीकोट ज़िला नेपाल की राजधानी काठमांडु से करीब 400 किलोमीटर की दूरी पर है.

यहां दो दिन पहले भी गुलमी ज़िले में हुए एक विमान हादसे में 13 लोगों की मौत हो गई थी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.