चार में तीन पाकिस्तानियों को भारतीय 'नापसंद'

 मंगलवार, 11 सितंबर, 2012 को 10:53 IST तक के समाचार
हिना खार और एस एम कृष्णा

दोनों देश संबंध सुधारने की कोशिश कर रहें हैं लकिन उतनी सफलता नहीं मिल पा रही है

भारत और पाकिस्तान आपसी रिश्ते सुधारने की हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं लेकिन ऐसा लगता है कि दोनों देशों की आम जनता उनकी इन कोशिशों की हिमायती नहीं है.

एक अमरीकी संस्था के ज़रिए किए गए सर्वेक्षण के मुताबिक़ केवल 13 फ़ीसदी भारतीय ही पाकिस्तान के बारे में अच्छी राय रखते हैं.

अमरीका स्थित संस्था प्यू रिसर्च सेंटर ने अपने सर्वेक्षण में पाया कि भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों के ज़्यादातर नागरिक एक दूसरे के बारे में अच्छी राय नहीं रखते.

रिपोर्ट के अनुसार भारत के बारे में पाकिस्तानियों की राय ज़्यादा कठोर है.

सर्वेक्षण में पाया गया है कि 72 फ़ीसदी पाकिस्तानी भारत को अच्छी नज़र से नहीं देखते जबकि 59 फ़ीसदी भारतीय पाकिस्तान के बारे में अच्छी राय नहीं रखते.

59 फ़ीसदी भारतीय यानी कि हर दस भारतीय में से छह पाकिस्तान को देश के लिए गंभीर ख़तरा मानते हैं. प्यू रिसर्च सेंटर की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक़ 59 फ़ीसदी भारतीय पाकिस्तान को चरमपंथी संगठन लश्कर-ए-तैय्यबा से भी ज़्यादा ख़तरनाक मानते हैं.

"सर्वेक्षण में पाया गया है कि 72 फ़ीसदी पाकिस्तानी भारत को अच्छी नज़र से नहीं देखते जबकि 59 फ़ीसदी भारतीय पाकिस्तान के बारे में अच्छी राय नहीं रखते."

पिउ रिसर्च सेंटर

सर्वेक्षण के मुताबिक़ केवल 13 फ़ीसदी भारतीय पाकिस्तान को अच्छी नज़र से देखते हैं. इस सर्वेक्षण के तहत नौ देशों में पाकिस्तान के बारे में लोगों की राय पूछी गई थी और पाकिस्तान के बारे में अच्छी राय रखने वालों की संख्या सबसे कम भारत में पाई गई.

नकारात्मक रवैया

पाकिस्तान में भी भारत के प्रति नकारात्मक राय रखने वालों की कमी नहीं.

सर्वेक्षण के मुताबिक़ 72 फ़ीसदी पाकिस्तानी भारत के बारे में सकारात्मक नज़रिया नहीं रखते और लगभग 55 फ़ीसदी पाकिस्तानी तो भारत के बारे में बहुत ही प्रतिकूल नज़रिया रखते हैं.

सर्वेक्षण में पाया गया है कि लगभग 57 फ़ीसदी पाकिस्तानी सुरक्षा की नज़र से भारत को एक गंभीर ख़तरा मानते हैं.

"दस में से सात भारतीय और दस में से छह पाकिस्तानी का मानना है कि दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारना बहुत महत्वपूर्ण है. दोनों देशों के लगभग दो-तिहाई लोगों का कहना है कि दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ना अच्छी बात है."

पिउ रिसर्च सेंटर सर्वेक्षण

रिपोर्ट के मुताबिक़ दोनों देशों के लोग एक दूसरे को नकारात्मक दृष्टि से देखते हैं लेकिन अच्छी बात ये है कि दोनों ही देश के लोग चाहते हैं कि दोनों देशों के संबंधों में सुधार हो.

रिपोर्ट के अनुसार दस में से सात भारतीय और दस में से छह पाकिस्तानी का मानना है कि दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारना बहुत महत्वपूर्ण है. दोनों देशों के लगभग दो-तिहाई लोगों का कहना है कि दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ना अच्छी बात है.

लेकिन कश्मीर के मुद्दे पर दोनों देशों के लोगों की राय बहुत बंटी हुई है.

रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान के लोग कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए जितना चिंतित हैं, ये मुद्दा भारत के लोगों का ध्यान उतना नहीं खींच पाता है.

59 फ़ीसदी भारतीय चाहते हैं कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत-पाकिस्तान के बीच मतभेद समाप्त हो जबकि 79 फ़ीसदी पाकिस्तानी कश्मीर के मुद्दे पर काफ़ी सख्त रवैया रखते हैं और चाहते हैं कि इसका समाधान हो.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.