पैंगंबर विरोधी फ़िल्म पर यू-ट्यूब के खिलाफ सुनवाई

 सोमवार, 24 सितंबर, 2012 को 10:38 IST तक के समाचार
फ़िल्म

फ़िल्म के ख़िलाफ़ अमरीका में भी प्रदर्शन हुए हैं.

अमरीका में बनी 'इस्लाम विरोधी' फिल्म के निर्माता और उसका ट्रेलर रिलीज़ करने वाले यू-ट्यूब वीडियो चैनेल के ख़िलाफ़ बॉम्बे हाई कोर्ट में सोमवार को दायर एक याचिका पर सुनवाई होगी.

याचिका की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश खानविलकर करेंगे और इसे मुंबई के एक स्थानीय वकील ने दायर किया है.

कम बजट की विवादित फ़िल्म 'इनोसेंस ऑफ़ मुस्लिम्स' अमरीका में तैयार की गई है. आरोप है कि फ़िल्म में इस्लाम धर्म और उसके पैगंबर मोहम्मद का अपमान किया गया है.

अनेक देशों में प्रदर्शन

हाल में ही यू-ट्यूब पर फ़िल्म के ट्रेलर रिलीज़ होने के बाद कई मुस्लिम बहुल देशों में हिंसा भड़क उठी जिसमें लीबिया में अमरीका के राजदूत की मौत हो गई थी.

हालांकि इसके ख़िलाफ़ भारत के चेन्नई और श्रीनगर में भी प्रदर्शन हुए लेकिन पाकिस्तान में विरोध कई हार हिंसक हो गया.

वहां प्रदर्शनों के दौरान कम से कम 19 लोग मारे गए हैं और कई घायल हैं. गूगल ने बाद में वीडियो को मलेशिया, सूडान, इराक और कई अन्य मुस्लिम देशों में ब्लाक कर दिया है.

अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा ने भी इस फिल्म की कड़े शब्दों में निंदा की है.

'वीडियो अपमानजनक, घृणित'

उधर अमरीका ने पाकिस्तान के रेल मंत्री ग़ुलाम अहमद बिलौर के उस ब्यान को 'अनुचित और भड़काऊ़' बताया है जिसमे उन्होंने फिल्म के निर्माता के क़त्ल पर इनाम घोषित किया है.

अमरीकी विदेश विभाग का कहना था, "राष्ट्रपति और विदेश मंत्री दोनों का मानना है कि ये वीडियो अपमानजनक, घृणित और निंदनीय है, लेकिन इससे हिंसा को न्यायसंगत नहीं ठहराया जा सकता है. ये जरूरी है कि जिम्मेदार नेता हिंसा के खिलाफ खड़ें हों और बोलें."

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.