टेलीकॉम में फिर प्रवेश करेंगे मुकेश अंबानी?

 गुरुवार, 27 सितंबर, 2012 को 13:52 IST तक के समाचार

अटकलें हैं कि मुकेश अंबानी टेलीकॉम बिज़नेस में दोबारा प्रवेश करेंगे

आगामी मोबाइल स्पेक्ट्रम की नीलामी में मुकेश अंबानी की रियालंस इंडस्ट्रीज़ (आरआईएल) के भी हिस्सा लेने की संभावना जताई जा रही है जिसके दूरसंचार बिज़नेस पर दूरगामी परिणाम हो सकते हैं.

इस कदम के बाद रिलायंस का मुकाबला भारती एयरटेल और वोडाफोन जैसी ब्रांड्स के साथ होगा.

सुप्रीम कोर्ट ने इस साल 122 नई कंपनियों के टेलीटॉम लाइसेंस रद्द कर दिए थे और इस स्पेक्ट्रम की अब दोबारा नीलामी हो रही है. ये नीलामी नवंबर में होनी है.

पीटीआई के मुताबिक नीलामी से पहले दूरसंचार विभाग ने जो प्रेस कांफ्रेंस रखी थी उसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज़ मुख्य सहभागी था.

सीधे बोली लगाएँगे मुकेश अंबानी?

सवाल ये है कि क्या आरआईएल सीधे बोली लगाएगी या फिर किसी ऐसी कंपनी को वित्तीय मदद देगी जो बोली लगाएगी और फिर रियालंस इंडस्ट्रीज़ उसे खरीद लेगी. इन अटकलों पर रियालंस इंडस्ट्रीज़ की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

आरआईएल ने 2010 में इन्फोटेल ब्रॉडबैंड को अधिगृहित किया था जिसके पास पूरे भारत में हाई स्पीड इंटरनेट ब्रॉंडबैंड सेवा देने का अधिकार है.

टेलीकॉम बिज़नेस में रियालंस इंडस्ट्रीज़ के दोबारा प्रवेश करने की संभावना पर सबकी नज़रें टिकी हुई हैं. 2005 में मुकेश और अनिल अंबानी की आपसी लड़ाई के बाद मुकेश अंबानी ने इस बिज़नेस से हाथ खींच लिए थे.

अटकलें इस बात पर भी लगाई जा रही हैं कि क्या मुकेश अंबानी का रिलायंस कम्युनिकेशन्स के साथ कुछ गठजोड़ हो सकता है जो अनिल अंबानी की कंपनी है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.