आम आदमी के नाम पर लूट मची है: ममता

 शनिवार, 29 सितंबर, 2012 को 21:09 IST तक के समाचार
ममता बनर्जी

जंतर मंतर पर प्रदर्शन में हिस्सा लेंगी ममता.

तृणमूल कांग्रेस की नेता और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने फिर एक बार केंद्र की यूपीए सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि सुधारों और आम आदमी के नाम पर लूट हो रही है.

तृणमूल कांग्रेस ने पिछले दिनों ही खुदरा क्षेत्र में विदेश निवेश की अनुमति देने, डीजल के दाम बढ़ाने और रसोई गैस पर सब्सिडी में कटौती के सरकार के फैसलों से नाराज होकर यूपीए का साथ छोड़ा था.

सरकार के हालिया फैसलों के विरोध में तृणमूल कांग्रेस एक अक्टूबर यानी सोमवार से नई दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन शुरु कर रही है.

इस प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए ममता बनर्जी शनिवार को कोलकाता से दिल्ली रवाना हो गईं.

सुधारों पर सवाल

"सुधारों का मतलब लोगों के विकास से होता है. आजकल चलन ये है कि जब भी जनविरोधी फैसले होते हैं तो वे सुधारों के नाम पर किए जाते हैं."

ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है, “सुधारों का मतलब लोगों के विकास से होता है. आजकल चलन ये है कि जब भी जनविरोधी फैसले होते हैं तो वे सुधारों के नाम पर किए जाते हैं.”

ममता बनर्जी ने कहा है, “आम आदमी और सुधारों के नाम पर लूट चल रही है.”

ममता बनर्जी की ये टिप्पणी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस बयान के बाद आई है कि सरकार सुधारों के रास्ते पर आगे बढ़ती रहेगी और इससे जुड़े मुद्दों पर सहयोगियों से चर्चा करने को तैयार है.

नई दिल्ली में प्रधानमंत्री ने कहा, “देश के लिए जो अच्छा होगा, हम करेंगे. सुधार एक झटके में होने वाली प्रक्रिया नहीं है.”

तृणमूल कांग्रेस के नेता और पूर्व शहरी विकास राज्य मंत्री सागौत रॉय ने पीटीआई को बताया कि पार्टी के सभी सांसद जंतर मंतर पर होने वाले प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.