बलात्कार से बचने के लिए जल्दी हो शादी: चौटाला

 बुधवार, 10 अक्तूबर, 2012 को 17:34 IST तक के समाचार
पंचायतों

कुछ अन्य खाप पंचायतों ने इस सुझाव को खारिज किया है.

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने खाप पंचायत की इस बात का समर्थन किया है कि बलात्कार से बचाने के लिए लड़कियों का जल्द ब्याह कर देना चाहिए.

चौटाला का कहना है, ''हमें अतीत से सीखना चाहिए...खासतौर पर मुगल काल से, जब लोग अपनी लड़कियों की शादी जल्द कर देते थे ताकि उन्हें अत्याचारों से बचाया जा सके. हरियाणा में भी ऐसे ही हालात है. शायद यही वजह है कि खाप ने ये फैसला सुनाया और मैं इसका समर्थन करता हूं.''

"हमें अतीत से सीखना चाहिए...खासतौर पर मुगल काल से, जब लोग अपनी लड़कियों की शादी जल्द कर देते थे ताकि उन्हें अत्याचारों से बचाया जा सके. हरियाणा में भी ऐसे ही हालात है. शायद यही वजह है कि खाप ने ये फैसला सुनाया और मैं इसका समर्थन करता हूं."

ओम प्रकाश चौटाला, पूर्व मुख्यमंत्री हरियाणा

चौटाला के इस बयान से एक दिन पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने खाप के इस फैसले की भर्त्सना की थी. हरियाणा में बढ़ रहे बलात्कारों पर काबू पाने के लिए कुछ खाप पंचायतों ने सुझाव दिया है कि लड़की की शादी की उम्र को घटाकर 16 साल और लड़के की 18 साल कर देना चाहिए.

इसके बाद अजीबो-गरीब फैसलों के लिए बदनाम हरियाणा की खाप पंचायतें एक बार फिर विवादों में घिर गई हैं. हालांकि कुछ अन्य खाप पंचायतों ने इस सुझाव को खारिज किया है.

अखिल भारतीय जाट महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश मान ने बीबीसी से बातचीत करते हुए कहा, ''बलात्कारों और भागकर शादी करने को रोकने का एक ही तरीका है, 16 साल की उम्र में शादी.''

उन्होंने कहा इसके अलावा ज़रूरी है कि सरकार को अश्लील वेबसाइटों और फिल्मों पर पाबंदी लगा देनी चाहिए.

'हाथ पकड़ कर घूमते हैं'

पूछने पर कि शादी के लिए क्या यह उम्र छोटी नहीं है क्योंकि यह उम्र तो पढ़ाई की होती है तो मान ने कहा, ''बहुत सारे लोग कॉलेजों में हाथ पकड़ कर घूमने के लिए जाते हैं. फिर घर से भाग कर शादी कर लेते हैं.''

उन्होंने कहा, ''क्या उससे अच्छा यह नहीं होगा कि उनकी शादी कर दी जाए. पुराने भारत में भी तो ऐसा ही होता था.''

"इस सुझाव में कोई तर्क नहीं है. 16 साल की उम्र में तो महिला शारीरिक रूप से ही शादी से लायक नहीं होती. पुरुषों के लिए 21 सही उम्र है क्योंकि वो ज़िम्मेदार होगा तभी तो शादी करेगा."

गिरजा व्यास, राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष

उन्होंने कहा कि वो इस बारे में केंद्र सरकार से मांग कर रहे हैं कि शादी की न्यूनतम उम्र को महिलाओं के लिए 18 और पुरुषों के लिए 21 वर्ष से घटाकर 18 और 16 साल कर दे.

खापों के इस सुझाव को कोई समर्थन मिलता नहीं दिखाई दे रहा है.

राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष गिरिजा व्यास कहती हैं, ''इस सुझाव में कोई तर्क नहीं है. 16 साल की उम्र में तो महिला शारीरिक रूप से ही शादी के लायक नहीं होती. पुरुषों के लिए 21 सही उम्र है क्योंकि वो ज़िम्मेदार होगा तभी तो शादी करेगा.''

हरियाणा में पिछले एक महीने में 12 से अधिक बलात्कार के मामले सामने आने से राज्य को शर्मसार होना पड़ा है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.