केएफ़सी के खाने में ज़िंदा कीड़े मिले, रेस्त्रां बंद

 बुधवार, 10 अक्तूबर, 2012 को 18:36 IST तक के समाचार
केएफ़सी टेकअवे मील

पिछले सालों में भारत में फ़ास्ट-फ़ूड रेस्त्रां बहुत लोकप्रिय हुए हैं.

भारत के केरल की फूड सेफ्टी अथॉरिटी यानि खाद्य सुरक्षा प्राधिकारण ने फ़ास्ट-फ़ूड की जानी-मानी अंतरराष्ट्रीय चेन केएफ़सी के एक रेस्त्रां को बंद कर दिया है. रेस्त्रां के एक ग्राहक ने शिक़ायत की थी कि उसके चिकन के व्यंजन में ज़िंदा कीड़े थे.

केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में हाल ही में खुला ये केएफ़सी रेस्त्रां काफी लोकप्रिय है. शिकायत सामने आने के बाद केएफ़सी ने कहा है कि वो 'मामले की जांच' कर रहा है लेकिन 'ऐसा होने की संभावना न के बराबर है'.

लेकिन खाद्य सुरक्षा अधिकारियों का कहना है कि रेस्त्रां के निरीक्षण में उन्हें चिकन में कीड़े मिले.

पिछले सालों में भारत में फ़ास्ट-फ़ूड रेस्त्रां बहुत लोकप्रिय हुए हैं. माना जा रहा है कि भारत में किसी विदेशी फ़ास्ट-फ़ूड चेन से संबंधित ये इस तरह का पहला मामला है.

ताज़ा चिकन?

केरल के खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने मंगलवार को उपभोक्ता की शिक़ायत के बाद रेस्त्रां को "अस्थायी तौर पर बंद करने" के आदेश दिए. ये व्यक्ति अपने परिवार के साथ इस रेस्त्रां में आया था.

खाद्य सुरक्षा विप्राधिकरण के अधिकारी सिवाकुमार ने बताया, "हम यहां एक ग्राहक कि शिकायत पर आए जिसने कहा था कि उसकी चिकन डिश में ज़िंदा कीड़े थे. जब हमने यहां निरीक्षण किया तो हमें फ़्राइड चिकन में कीड़े मिले."

वहीं बीबीसी को भेजे गए एक वक्तव्य में कंपनी ने कहा कि, "हमें तिरुवंतपुरम के एक रेस्त्रां में स्थानीय अधिकारियों द्वारा हाल ही में किए गए निरीक्षण की जानकारी है."

वक्तव्य में आगे कहा गया है, "केएफ़सी में इस्तेमाल होने वाली चिकन नवीनतम तकनीकों से लैस उत्पादन गृहों से खरीदा जाता है जहां खाद्य सुरक्षा के सबसे कड़े नियमों का पालन होता है. हमारी चिकन डिश, साफ़-सुथरे तरीके से दिन में कई बार ताज़ी बनती है. ये 250 डिग्री तापमान पर अवन या फिर 170 डिग्री तापमान पर फ्राइर में पकाई जाती है."

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.