तेंदुए के मुँह से छीना माँ ने अपना बच्चा

 गुरुवार, 18 अक्तूबर, 2012 को 17:32 IST तक के समाचार
तेंदुए का हमला (फ़ाइल फ़ोटो)

देश के कई हिस्से में तेंदुए ने बस्ती में घुसकर लोगों पर हमला किया है

जहां एक ओर दुधवा टाइगर रिजर्व जंगल से लगे इलाकों में तेंदुओं के हमले बढ़ने से लोग डरे हुए हैं, वहीँ एक बहादुर महिला ने तेंदुए को दौड़ा कर अपने बच्चे को उसके मुहं से छीन लिया.

यह घटना कतरनिया घाट वन क्षेत्र के निशान गाढा रेंज की है. मुखिया फ़ार्म गाँव की द्रौपदी अपने सात साल के बेटे अतुल को खेत की मेड़ पर बैठाकर धान काट रही थी. तभी उसने देखा कि एक तेंदुए ने उसके बेटे की गर्दन दबोच ली है.

हाथ में धान काटने वाला हंसिया लिए द्रौपदी चिल्लाते हुए तेंदुए के पीछे दौड़ी. शोर सुनकर और भी लोग दौड़े.

द्रौपदी ने जंगल में कुछ दूर तेंदुए का पीछा कर अपने बच्चे को छुड़ा लिया.

लेकिन तेंदुए की पकड़ से अतुल गंभीर रूप से घायल हो गया है. उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कतरनिया घाट वन क्षेत्र के अधिकारी रामकृष्ण ने फोन पर बताया कि घायल अतुल के इलाज के लिए टाइगर कंजर्वेशन सोसायटी की ओर से ढाई हज़ार रूपये तुरंत दिए गए हैं.

तेंदुए की बढ़ती आबादी

रामकृष्ण के मुताबिक़ मोतीपुर , निशान गाढ़ा और कतरनिया घाट के जंगलों में तेंदुओं के कई हमले हुए हैं.

कतरनिया घाट का तेंदुआ काफ़ी बूढ़ा बताया गया है. उसको पकड़ने के लिए जमुनिहा गाँव में पिंजरा लगाया गया है.

अधिकारी का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों में कतरनिया घाट जंगल में तेंदुए की आबादी बढ़ी है. भोजन यानी पालतू जानवरों की तलाश में ये गाँवों के आसपास आ रहे हैं.

उनका कहना है कि अब धान और गन्ने की कटाई का सीजन शुरू होने से लोग खेतों में जा रहे हैं , जहां तेंदुओं से टकराव हो रहा है.

जानकार लोगों का कहना है कि इस समस्या का एक और पहलू यह भी है कि बाघों की गिनती करते समय तेंदुओं की गिनती नहीं की जाती और न इस बात पर गौर किया जा रहा है कि इनकी बढ़ती हुई आबादी के हिसाब से जंगल ओर भोजन दोनों कम पड़ रहे हैं.

वन अधिकारियों का कहना है कि अगर तेंदुओं को पकड़ा जाए तो फिर समस्या है कि उन्हें कहाँ ले जाया जाए?

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.