नीलम तूफान से दो की मौत, भारी बारिश

दक्षिणी भारत के पूर्वी तट पर आए चक्रवाती तूफ़ान नीलम के कारण कम से कम दो लोगों की मौत हो गई है. तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश पर इसका सबसे ज़्यादा असर हुआ है. तूफान के कारण तेज़ हवाएँ और भारी बारिश हुई है.

निचले इलाके में रहने वाले हज़ारों लोगों को अपने घर छोड़कर सुरक्षित जगहों पर जाना पड़ा है.चेन्नई में काफी नुकसान हुआ है. बिजली की आपूर्ति अस्त व्यस्त है. चेन्नई हवाई अड्डे को भी बंद कर दिया गया.

चेन्नई में स्कूल, कॉलेज और बंदरगाहों में काम बंद रहा. तमिलनाडू और आंध्रप्रदेश में मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है.

इस साल "नीलम" इस क्षेत्र में आने वाला पहला चक्रवाती तूफ़ान है. पिछले वर्ष इसी इलाके में आए तूफ़ान "ठाणे" ने काफी तबाही मचाई थी.

मौसम विभाग ने कहा है कि अभी और बारिश होगी और गुरुवार सुबह तक लहरें उठती रहेंगी.

इंतज़ाम

रिपोर्टों के मुताबिक चेन्नई में 300 स्कूलों और सामुदायिक केंद्रों को तैयार रखा गया है ताकि विस्थापित लोगों को शरण दी जा सके. आंध्रप्रदेश के संवेदनशील इलाकों में कंट्रोल रूम भी बनाए गए है.

पड़ोसी देश श्रीलंका में भी बाढ़ का असर हुआ है और करीब चार हज़ार विस्थापित लोग शिविरों में रह रहे हैं. हालांकि तूफान का श्रीलंका पर कम असर हुआ है.

रेड क्रॉस संस्था के लोग श्रीलंका में लोगों को टेंट, गद्दे मुहैया करवा रहे हैं.कोलंबो में बीबीसी संवाददाता चार्ल्स हावीलैंड का कहना है कि 2009 में गृह युद्ध से जो लोग सबसे ज़्याद प्रभावित हुए थे वे ही बाढ़ की चपेट में आए हैं.

संबंधित समाचार