हिमाचल प्रदेश में रिकॉर्ड मतदान

 रविवार, 4 नवंबर, 2012 को 23:51 IST तक के समाचार
हिमाचल प्रदेश में चु्नाव

लोगों ने बढ़ चढ़ कर चुनाव में हिस्सा लिया

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड 74.62 फीसदी मतदान हुआ है. राज्य में रविवार को सभी 68 विधानसभा सीटों पर वोट डाले गए.

वैसे मतदान की शुरुआत धीमी रही लेकिन जैसे जैसे दिन चढ़ता गया, वोट डालने वालों की रफ्तार बढ़ती गई.

शाम पांच बजे जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक राज्य के 46 लाख मतदाताओं में से 74.62 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

चुनाव आयोग के महानिदेशक अक्षय राउत ने नई दिल्ली में पत्रकारों को बताया कि चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गया.

ईवीएम की कड़ी निगरानी

कुछ मतदान केंद्रों पर शाम पांच बजे के बाद भी मतदाताओं की लंबी कतारें देखी गईं. इससे पहले 2003 में राज्य में रिकॉर्ड 74.51 प्रतिशत मतदान हुआ था. लेकिन मतदाताओं ने रविवार को एक नया कीर्तिमान रच दिया.

वोटों की गिनती 20 दिसंबर को गुजरात में वोट डाले जाने के बाद होगी. तब तक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों की सीसीटीवी कैमरों के साथ कड़ी निगरानी में रखा जाएगा.

राज्य में मुख्य मुकाबला सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच है. दोनों पार्टियों ने सभी 68 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे.

मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने राज्य में अपनी सत्ता बरकरार रखने के लिए पूरा जोर लगाया था. वैसे हिमाचल प्रदेश में 1977 के बाद से कभी सत्ताधारी पार्टी चुनाव नहीं जीती है.

किस्मत हुई कैद

हिमाचल प्रदेश में चु्नाव

राज्य में रिकॉर्ड किसके हक में जाता है, ये देखने वाली बात होगी

कांग्रेस नेता और राज्य के पांच बार मुख्यमंत्री रह चुके वीरभद्र सिंह ने शिमला से 120 किलोमीटर दूर रामपुर में वोट डाला जबकि मुख्यमंत्री धूमल ने हमीरपुर में मताधिकार का प्रयोग किया.

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में इस बार महंगाई और भ्रष्टाचार सबसे अहम मुद्दे रहे.

कांग्रेस और भाजपा के अलावा अन्य पार्टियों में बहुजन समाज पार्टी ने 66, हिमाचल लोकहित पार्टी ने 36, तृणमूल कांग्रेस ने 25, समाजवादी पार्टी ने 16, सीपीएम ने 15, एनसीपी ने 12, स्वाभिमान पार्टी ने 12 और शिवसेना ने 4 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे. इनके अलावा 105 निर्दलीय भी मैदान थे.

पिछली बार 2007 के विधानसभा चुनावों में भाजपा ने 41 सीटें जीती थीं जबकि कांग्रेस को 23 सीटों से ही संतोष करना पड़ा. इसके अलावा तीन सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों के खाते में गईं जबकि एक सीट पर बहुजन समाज पार्टी को कामयाबी मिली.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.