नीतीश की 'अधिकार रैली' पर छात्रों का सवाल!

 रविवार, 4 नवंबर, 2012 को 17:03 IST तक के समाचार

नवरूणा लगभग डेढ़ महीन से लापता हैं.

एक तरफ़ जहां बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना में अधिकार रैली कर रहे हैं और बिहार में सुशासन का दावा कर रहे हैं वहीं दिल्ली में कुछ छात्रों ने डेढ़ महीने पहले अगवा छात्रा की रिहाई के लिए नीतीश कुमार प्रशासन की जमकर खिंचाई की.

नवरूणा की रिहाई की मांग करते हुए दिल्ली में रविवार को कुछ छात्रों ने जनता दल यूनाइटेड के दफ्तर के बाहर धरना प्रदर्शन किया.

11 साल की नवरूणा मुज़फ्फरपुर की रहने वाली है और पिछले 11 सितंबर से अपने घर से गायब है.

जदयू दफ्तर के सामने प्रदर्शन

दिल्ली में आयोजित प्रदर्शन में शामिल दिल्ली विश्विद्यालय के एक छात्र अभिषेक ने कहा, "जब बिहार सरकार और बिहार पुलिस नवरूणा की वापसी के लिए सही प्रयास नहीं कर रही है तो हम दिल्ली में विभिन्न कॉलेजों में पढ़ रहे छात्र-छात्राओएं यहां विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर हैं क्योंकि बस यही अंतिम उपाय बचा है."

"जब बिहार सरकार और बिहार पुलिस नवरूणा की वापसी के लिए सही प्रयास नहीं कर रही है तो हम दिल्ली में विभिन्न कॉलेजों में पढ़ रहे छात्र-छात्राओएं यहां विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर हैं क्योंकि बस यही अंतिम उपाय बचा है. "

प्रदर्शन कर रहा छात्र अभिषेक रंजन

प्रदर्शन में हिस्सा ले रही एक छात्रा सुरप्रीत कौर ने कहा, "ये सिर्फ बिहार का मामला नहीं है. नवरूणा एक कम उम्र की बच्ची है जिसकी सुरक्षा की जिम्मेवारी सरकार को लेनी चाहिए. बिहार सरकार को कार्रवाई करनी ही होगी."

इन छात्रों का कहना है कि वो सोशल मीडिया पर भी नवरूणा के लिए अभियान चलाएंगे. दो दिन तक अगर बिहार सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठाती है तो वो जनहित याचिका दायर कर बिहार उच्च न्यायालय से मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह करेंगे.

मामला

नवरूणा चक्रवर्ती 11 सितंबर से अपने घर से गायब है.

नवरूणा के पिता अतुल्य ने बीबीसी को बताया कि उन्होंने आखिरी बार अपनी बेटी को 18 सितंबर की रात 12 बजे देखा था लेकिन जब 4 बजे सुबह के आसपास उनकी नींद खुली तो उनकी बेटी घर में नहीं थी.

घर के दरवाज़े खुले हुए थे और नवरुणा के कमरे की खिड़की टूटी हुई थी.

उन्होंने पुलिस से सहायता की मांग की लेकिन वो कहते हैं कि उन्हें सिर्फ दिलासा के अलावा कुछ और नहीं मिला है,

इस बीच अतुल्य चक्रवर्ती के मुताबिक़ उनकी पत्नी ने राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने की भी कोशिश की लेकिन उन्हें सादी वर्दी में मौजूद महिला पुलिस कर्मियों ने मुख्यमंत्री से मिलने ही नहीं दिया और ज्ञापन फाड़ दिया.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.