भारतीय कश्मीर में तीन सैनिकों की मौत

 गुरुवार, 15 नवंबर, 2012 को 03:00 IST तक के समाचार

कश्मीर में हाल के दिनों में स्थिती में सुधार हुआ है.(फाइल फोटो)

भारत प्रसाशित कश्मीर में अधिकारियों के अनुसार बुधवार को हुई एक मुठभेड़ में तीन भारतीय सैनिक मारे गए हैं.

भारतीय सेना के प्रवक्ता के अनुसार इस मुठभेड़ में दो चरमपंथी भी मारे गए हैं.

भारतीय सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल एच एस बरार ने कहा, “कश्मीर से 76 किलोमीटर दूर कुपवाड़ा में तूतीमार सेक्टर में ये मुठभेड़ तब हुई जब पाकिस्तान की ओर से हथियारबंद चरमपंथियों ने घुसपैठ करने की कोशिश की. चरमपंथियों की ओर से किए गए हमले में हमारे तीन जवानों की मौत हुई है जबकि जवाबी हमले में दो चरमपंथी भी मारे गए हैं.”

इससे पहसे स्थानीय पुलिस ने दावा किया था कि उन्होंने चरमपंथी गुट लश्कर-ए-तैबा के एक चरमपंथी को मार गिराया है.

भारतीय सरकार के अनुसार लश्कर-ए-तैबा का 2008 के मुंबई हमले में हाथ रहा है.

"कश्मीर से 76 किलोमीटर दूर कुपवाड़ा में तूतीमार सेक्टर में ये मुठभेड़ तब हुई जब पाकिस्तान की ओर से हथियारबंद चरमपंथियों ने घुसपैठ करने की कोशिश की. चरमपंथियों की ओर से किए गए हमले में हमारे तीन जवानों की मौत हुई है जबकि जवाबी हमले में दो चरमपंथी भी मारे गए हैं."

भारतीय सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल एच एस बरार

पुलिस अधिकारियों ने बीबीसी को बताया, “हमें सूचना मिली थी कि कमांडर शब्बीर मीर एक घर में छुपे हुए हैं. हमने सेना के साथ मिलकर अभियान चलाया और मुठभेड़ के बाद वो मारे गए.”

मुठभेड़ में मारे गए चरमपंथी के अंतिम संस्कार में सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया.

हालात बेहतर

कश्मीर में चरमपंथी हिंसा फ़िलहाल सबसे कम स्तर पर है और कश्मीर में सैलानियों की संख्या बढ़ती जा रही है.

ग्रीस, जर्मनी और ब्रिटेन ने अपने नागरिकों के कश्मीर यात्रा करने पर रोक हटा ली है.

हालात में सुधारों के बाद भारत का समर्थन करने वाले कश्मीरी राजनेताओं ने कड़े सैनिक क़ानूनों को हटाने की मांग की है लेकिन सेना इस बात पर ज़ोर देती रही है कि चरमपंथियों के घुसपैठ की संभावनाएं अब भी बरक़रार है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.