अखिलेश यादव को किसने दी धमकी?

Image caption अखिलेश ने यूपी की महिलाओं को दिया भाईदूज का तोहफा.

ये मत समझिए कि केवल महिलाओं को मोबाइल फ़ोन पर परेशान किया जाता है. पुलिस के मज़बूत सुरक्षा कवच से घिरे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भी उनके मोबाइल फ़ोन पर लगातार धमकियां और गालियां सुनने को मिलती हैं.

अखिलेश यादव ने महिलाओं के लिए एक नई हेल्प लाइन 1090 का शुभारंभ करते हुए यह जानकारी सार्वजनिक की.

महिलाओं के लिए अलग हेल्प लाइन की ज़रुरत बताते हुए अखिलेश ने कहा कि कानपुर की एक स्वयं सेवी संगठन ने उनको बताया था कि लड़कियों के साथ छेड़ख़ानी या परेशान करने की घटनाओं पर पुलिस से मदद नही मिल पा रही.

मुख्यमंत्री ने कहा कि लगातार मोबाइल फ़ोन की संख्या बढ़ने के साथ ही इसका दुरूपयोग भी हो रहा है.

सीएम का 'दर्द'

अखिलेश ने अपना अनुभव साझा करते हुए बताया कि एक नौजवान लगातार उन्हें फ़ोन करके शिकायत करता था कि चुनाव घोषणापत्र के मुताबिक़ लैपटॉप और टैबलेट कब मिलेगा.

अखिलेश कहते हैं, “एक दिन उसने वो शब्द और वो सब कुछ मोबाइल पर कहा जो सोचा नही जा सकता और धमकाया भी उसने. कहा कि अगर लैपटॉप नही मिलेगा, तो देख लेंगे आप लोगों को. मोबाइल पर गाली गलौज भी किया.”

उन्होंने कहा कि पुलिस ने उसे ढूंढ निकाला लेकिन मैंने कहा, "कार्रवाई मत करना."

उन्होंने कहा, "सड़क, बिजली, शिक्षा पर काफ़ी काम किया है, लेकिन क़ानून व्यवस्था के मामले में आरोप सुनने पड़ते हैं."

इस मौक़े पर बड़ी संख्या में उपस्थित पुलिस अधिकारियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनको काम करने की खुली छूट है लेकिन वो क़ानून व्यवस्था से समझौता नही करेंगे.

इससे पहले वरिष्ठ पुलिस अधिकारी नवनीत सिकेरा ने 'वूमेन पावर लाइन 1090' के बारे में मल्टी मीडिया के ज़रिए विस्तार से जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि पिछले कुछ महीनों में इस तरह महिलाओं को परेशान करने के 76 मामले सामने आए हैं. इनमे से कुछ मामलों में तो महिलाएं मानसिक रूप से इतना परेशान हुई कि उन्होंने नौकरी या पढ़ाई तक छोड़ दी.

ख़ास बात

पूरे उत्तर प्रदेश में कहीं से फ़ोन पर इस हेल्प लाइन पर बात की जा सकती है.

किसी भी स्थिति में शिकायत करने वाली महिला की पहचान उजागर नही की जाएगी.

शिकायत करने वाली महिला को जाँच के दौरान किसी थाने या दफ्तर में नही बुलाया जाएगा.

जिस मनचले के ख़िलाफ़ शिकायत होगी पुलिस सबसे पहले उसे स्वयं समझाएगी, परिवार के लोगों की मदद लेगी .

सुधार नही हुआ तो अंत में क़ानूनी कार्यवाही की जाएगी.

पुलिस अधिकारी सिकेरा ने बताया कि आगे चलकर एसएमएस, एमएमएस और सोशल मीडिया के ज़रिए महिलाओं को परेशान करने पर भी कार्यवाई होगी.

इसके बाद दफ्तरों में कामकाजी महिलाओं के उत्पीड़न को इस हेल्प लाइन के दायरे में लाया जाएगा.

भैया दूज के मौक़े पर अखिलेश यादव ने ये तोहफा यूपी की महिलाओं को दिया.

संबंधित समाचार