ठाकरे का अंतिम संस्कार आज, सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम

 रविवार, 18 नवंबर, 2012 को 07:20 IST तक के समाचार

बाल ठाकरे का शनिवार को मुंबई में निधन हो गया था

शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे का अंतिम संस्कार रविवार शाम मुंबई में किया जाएगा. इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को मुंबई के शिवाजी पार्क में दर्शन के लिए रखा जाएगा.

शिवसेना नेता संजय राउत ने बताया कि आम जनता सुबह से शाम पांच बजे तक ठाकरे के पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन कर सकती है. बाद में पास में स्थित श्मशान में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

इस बीच शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के निधन के बाद पूरे महाराष्ट्र में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. समाचार एजेंसियों के मुताबिक अकेले मुंबई शहर में नगर पुलिस के 20 हजार जवानों, राज्य आरक्षी पुलिस बल की 15 कंपनियों और रैपिड एक्शन फोर्स की तीन टुकड़ियों को तैनात किया गया है.

मुंबई के पुलिस आयुक्त ने लोगों से लोगों से शांत रहने और कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है और कहा है कि लोग जरूरी होने पर ही घरों से बाहर निकलें.

हालांकि पुलिस आयुक्त ने कहा है कि किसी से भी दुकान बंद करने को नहीं कहा गया है, बावजूद इसके बाला साहब ठाकरे के निधन के बाद से ही पूरा मुंबई शहर सुनसान पड़ा है. दुकानें, होटल, रेस्तरां और अन्य वाणिज्यिक संस्थान बंद हैं और सड़कों पर इक्का-दुक्का वाहन ही नजर आ रहे हैं.

निधन

शिव सेना के प्रमुख बाल ठाकरे का शनिवार को मुंबई में निधन हो गया. वे पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे. हालांकि बीच में खबर आई थी कि उनकी तबीयत सुधर रही है लेकिन शनिवार को 86 साल के बाल ठाकरे ने दम तोड़ दिया.

क्लिक करें बाल ठाकरे का जीवन परिचय

बाल ठाकर के घर मातोश्री के बाहर उनके डॉक्टर जलील पारकर ने शनिवार शाम को निधन की सूचना दी. डॉक्टर जलील ने बताया, "उन्हें दिल का दौरा पड़ा. तमाम कोशिशों के बावजूद हम उन्हें बचा नहीं सके. उन्होंने साढ़े तीन बजे के आस पास अंतिम साँस ली."

क्लिक करें बाल ठाकर के निधन पर शोक संदेश

बाल ठाकरे की तबीयत और बिगड़ने की ख़बर के बाद उनके भतीजे राज ठाकरे और अन्य राजनीतिक नेता मातोश्री पहुँचना शुरु हो गए थे.

मुंबई में बीबीसी संवादादता योगिता लिमे ने कहा है कि बाल ठाकरे के निधन के बाद मुंबई में सुरक्षा इंतज़ाम कड़े कर दिए गए हैं. आज दुकानें बंद हैं और रविवार को भी बाज़ार बंद रहने की संभावना है.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रात्रिभोज के लिए भाजपा नेताओं को बुलाया हुआ था लेकिन अब ये भोज रद्द कर दिया गया है.

शोक का माहौल

योगिता लिमे, बीबीसी संवाददाता, मुंबई से

मातोश्री के बाहर खड़े हुए लोगों में वहाँ जमा मीडिया को लेकर नाराज़गी है. मीडियाकर्मी को बाल ठाकरे के घर के पास एक सरकारी इमारत में फिलहाल रखा गया है.

महाराष्ट्र सरकार ने अभी तक मीडिया को अंतिम संस्कार कवर करने के लिए शिवाजी पार्क जाने की अनुमति नहीं दी है.

अभी इस बात की पुष्टि तो नहीं हुई है लेकिन बताया जा रहा है कि बाल ठाकरे का अंतिम संस्कार रविवार शाम छह बजे होगा. मुंबई पुलिस ने शनिवार शाम और रविवार के लिए हिदायत जारी की है कि लोग घरों से तभी निकलें अगर बहुत ज़रूरी हो.

मौत की ख़बर आने के बाद उनके घर के बाहर शिव सैनिकों को रोते हुए देखा गया. कई नेताओं ने उनकी निधन पर गहरा खेद जताया है.

बताया जा रहा है कि उनका पार्थिव शरीर रविवार को शिवाजी पार्क में रखा जाएगा. शिवाजी पार्क से ही उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी.

भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी और नरेंद्र मोदी, अभिनेता अमिताभ बच्चन, उद्योगपति आनंद महींद्रा समेत की हस्तियों ने बाल ठाकरे के निधन पर शोक जताया है.

क्लिक करें कौन होगा बाल ठाकरे का उत्ताराधिकारी?

1926 में जन्मे बाल ठाकरे का महाराष्ट्र की राजनीति में खासा दबदबा रहा है. उन्होंने करियर की शुरुआत एक पेशेवर कार्टूनिस्ट के तौर पर की थी लेकिन बाद में वे राजनीति में कूद गए.

हालांकि शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने कभी न तो कोई चुनाव लड़ा और न ही कोई राजनीतिक पद स्वीकार किया. लेकिन वे राजनीति में हमेशा विवादित हस्ती के तौर पर देखे गए हैं.

वरिष्ठ पत्रकार सिद्धार्थ भाटिया के अनुसार राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि शुरूआती दौर में सत्ताधारी कांग्रेस ने शिवसेना को या तो नज़रअंदाज़ किया या फिर कई मामलों में तो वामपंथियों जैसे अपने राजनीतिक विरोधियों को समाप्त करने के लिए शिवसेना को प्रोत्साहित किया.

लेकिन 80 के दशक के दौरान शिवसेना एक बड़ी राजनीतिक शक्ति बन गई थी जो राज्य में सत्ता हासिल करने के लिए अपनी दावेदारी पेश कर रही थी. बाल ठाकरे ने बाद में हिंदुत्व वादी विचारधारा का भी सहारा लिया.

बाल ठाकरे की तीखी भाषणबाज़ी ने उन्हें भारत के सबसे विवादित नेताओं में एक बना दिया था.

उनपर 1993 के मुंबई दंगों के दौरान हिंदु और मुसलमानों के बीच तनाव पैदा करने के आरोप भी लगे थे.

मुंबई दंगों पर एक सरकारी जांच में शिवसेना पार्टी के कार्यकर्ताओं और कई नेताओं पर मुसलमानों पर हमले करवाने में बड़ी भूमिका निभाने का आरोप लगाया था.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.