एफडीआई के ख़िलाफ़ एनडीए लाएगा वोटिंग मोशन

 मंगलवार, 20 नवंबर, 2012 को 22:46 IST तक के समाचार
एनडीए

एनडीए की बैठक की एक फाइल फोटो

एनडीए ने कहा है कि संसद के दोनों सदनों में खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफ़डीआई) के सरकार के फैसले को अस्वीकार कराने के लिए 'वोटिंग मोशन' लाया जाएगा.

भाजपा प्रवक्ता रवि शंकर प्रसाद ने मंगवलार शाम हुई एनडीए की बैठक के बाद पत्रकारों से ये बात कही. संसद सत्र शुरू होने में दो ही दिन बचे हैं.

उन्होंने कहा कि पिछले दिनों रिटेल में एफडीआई के फैसले के खिलाफ भारत बंद का समर्थन करने वाली सभी पार्टियों से इस मोशन के समर्थन करने का आग्रह किया गया है.

दूसरी तरफ, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा की ओर से पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी का इस्तीफा मांगे जाने पर प्रसाद ने कहा, ''यशवंत सिन्हा की सार्वजनिक टिप्पणी को पार्टी उचित नहीं मानती और उन्हें इस पर दोबारा विचार करने के लिए कहती है.''

"पिछले शीतकालीन सत्र में सरकार ने कहा था कि सभी पार्टियों से संवाद औऱ चर्चा के बिना एफडीआई पर कोई फैसला नहीं किया जाएगा. सरकार ने इसका उल्लंघन किया है."

रवि शंकर प्रसाद

रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि पार्टी यशवंत सिन्हा के विचारों से सहमत नहीं है.

'वादा खिलाफी'

रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि 7 दिसंबर 2011 को पिछले शीतकालीन सत्र में सरकार ने कहा था कि सभी पार्टियों से संवाद और चर्चा के बिना एफडीआई पर कोई फैसला नहीं किया जाएगा. ''सरकार ने इसका उल्लंघन किया है.''

उन्होंने सरकार पर हर मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाया और कहा कि उसे सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है.

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने एफडीआई के मुद्दे पर अविश्वास प्रस्ताव के लिए भाजपा और वामदलों से समर्थन की अपील की थी.

कांग्रेस पहले ही कह चुकी है कि एफडीआई के मुद्दे पर अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने के लिए केंद्र सरकार पूरी तरह तैयार है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.