कमांडो की पेंशन पर केजरीवाल और सरकार में बयानबाज़ी

केजरीवाल
Image caption केजरीवाल ने कहा कि देश के लिए लड़ने वाले कमांडो दर्दनाक ज़िंदगी जी रहे हैं.

मुंबई हमले के दोषी अजमल कसाब की फांसी के एक दिन बाद, अरविंद केजरीवाल ने 26/11 हमले में सैनिक कार्रवाही को अंजाम देने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के कमांडो की कथित दुर्दशा का मुद्दा उठाया है.

उन्होंने सरकार पर 26/11 के हमले में लड़ने वाले एनएसजी के कमांडों साथ खराब सलूक का आरोप लगाया है. उनकी प्रेसवार्ता में सुरिंदर सिंह नाम का एक पूर्व एनएसजी कमांडो भी मौजूद था.

सुरिंदर सिंह का आरोप है कि उन्हें सरकार से कोई पेंश नहीं मिल रही और ना ही वादे कोई अन्य भुगतान किया गया है.

सरकार ने सुरिंदर के आरोप ख़ारिज करते हुए कहा है कि उन्हें घायलों को दी जाने वाली पेंशन दी जा रही है.

पूर्व कमांडो सुरिंदर सिंह उस हमले में घायल हुए थे. इसके बाद शारीरिक तौर पर अयोग्य होने पर उन्हें नौकरी छोड़नी पड़ी थी.

केजरीवाल ने कहा, ''उन्हें पेंशन नहीं मिलती यहां तक कि अपना मेडिकल बिल भी उन्हें खुद चुकाना पड़ता है. आज तक वे अपने हकों को लिए लड़ रहे हैं और उन्हें तरह-तरह से परेशान किया जा रहा है.''

अपनी हालत बयान करते हुए सुरिंदर सिंह ने कहा, ''मुझे इस बात का मलाल नहीं है कि मुझे घर भेज दिया गया. मैं सरकार पर बोझ नहीं बन सकता.''

पेंशन

लेकिन सरकार ने इन आरोपों का तुरंत जवाब देते हुए प्रेस इंफ़ोर्मेशन ब्यूरो के ज़रिए ट्वीट कर कहा, "सुरिंदर सिंह को प्रतिमाह 25, 254 रुपए पेंशन दी जा रही है. इसके बारे में उन्हें 16 नवंबर को फोन के ज़रिए सूचित कर दिया गया था. सरकार ने सुरिंदर के सारे भुगतान चुका दिए हैं. "

उन्होंने कहा कि उन्होंने कोई पेंशन नहीं मिल रही है. ''यहां तक कि अपना इलाज मैं अपने पैसे से रहा हूँ. मुझसे कहा गया कि इसके पैसे नहीं मिल सकते क्योंकि विभाग को पहले नहीं बताया था कि मैं चोटिल हूँ और इलाज करा रहा हूँ.''

उन्होंने इसे लेकर सूचना अधिकार का सहारा लेना चाहा लेकिन विभाग ने उनके अधिकतर सवालों के जवाब यह कहते हुए नहीं दिए कि यह विभाग इस कानून के तहत नहीं आता.

सुरिंदर ने कहा कि सरकार का ये दावा झूठा है कि उन्हें घायलों को दी जाने वाली पेशन यानी लगभग 25,000 रुपए हर महीने दिए जा रहे है. ''13 महीने से लगातार ये कहा जा रहा है कि मुझे पैसा दिया जाएगा लेकिन आज तक कोई पैसा नहीं मिला है.''

उधर सूचना और प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा कि सुरिंदर को 31 लाख रुपए दिए गए हैं. उन्होंने कहा, ''इस पर सारी जानकारी सेना मंत्रालय देगा.''

इस बीच अरविंद केजरीवाल ने शाम को ट्वीट किया, ''सेना ने यह माना है कि उनका मेडिकल कार्ड अक्तूबर 2012 में ही बना था. यानी कि अभी तक वे अपने ही पैसे से इलाज करा रहे थे.''

केजरीवाल ने यह भी दावा किया कि सेना ने अपनी बयान में यह भी माना है कि उनकी पेंशन अभी अभी मंज़ूर की गई है.

संबंधित समाचार