अस्पताल से घर पहुंची नन्ही दामिनी

Image caption इलाज के बाद ठीक हो रही है दामिनी

भरतपुर की ढाई माह की बच्ची दामिनी की हालत नासाज़ होने के बाद एक बार फिर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन अब उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. डॉक्टरो के मुताबिक उसे सर्दी- जुकाम की शिकायत है.

दामिनी के रिक्शा चालक पिता बबलू ने बीबीसी को बताया कि दामिनी दुनिया भर की लाडली है, लिहाजा डॉक्टर कोई जोखिम नहीं लेना चाहते.

इससे पहले भरतपुर के जिला कलेक्टर जीपी शुक्ला ने बीबीसी को बताया था अब दामिनी के हालत ठीक है और जल्द ही उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी.

उन्होंने कहा, ''डॉक्टरो से मेरी बात हुई है उसकी हालत ठीक है. लेकिन मैंने पूरी अहतियात बरतने को कहा है. हम नजर रखे हुए है और उसके बेहतर भविष्य के लिए भी उपाय कर रहे हैं."

क्यों है दामिनी 'स्पेशल'

रिक्शा चलाकर जीवन यापन करने वाले बबलू की बेटी दामिनी को दुनिया ने तब जाना जब बबलू ने दामिनी की माँ की मौत के बाद उसे कपड़े के झूले में लटका कर रिक्शा चलाया.

ये दृश्य अपने आप में इतना दर्दनाक था कि दुनिया भर के लोग बच्ची की मदद के लिए आगे आए.

हर कोई बच्ची की मदद करना चाहता था. इस बीच ख़बर आई कि दामिनी बीमार हो गई है.

दुनिया के कोने-कोने से लोगों ने दामिनी के लिए ना सिर्फ पैसे भेजे बल्कि साथ में ढेर सारी दुआएं भी नत्थी की.

दामिनी के बीमार चेहरे पर दमक लौटने लगी, वो ठीक हो गई. उसकी बेहतर परवरिश के लिए उसे उसकी बुआ के पास रखा जा रहा है.

लोगों ने दामिनी के इलाज और भविष्य के लिए 16 लाख से अधिक की रकम जमा की है और साथ राजस्थान सरकार ने दामिनी पर विशेष ध्यान दिया है.

संबंधित समाचार