प्रधानमंत्री बनने लायक हैं नरेंद्र मोदी:सुषमा स्वराज

भाजपा नेता सुषमा स्वराज
Image caption सुषमा स्वराज ने कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के लायक हैं.

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता और लोकसभा में पार्टी की नेता सुषमा स्वराज ने कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बनने के लायक हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक गुजरात में विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए वड़ोदरा पहुंची सुषमा स्वराज ने शनिवार को पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा, "नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बनने के लायक हैं. वो इस काबिल हैं."

उन्होंने ये भी दावा किया भाजपा गुजरात में तीसरी बार जीतकर हैटट्रिक बनाएगी और कांग्रेस की 2014 लोकसभा चुनाव में हार होगी.

लेकिन वरिष्ठ पत्रकार नीना व्यास कहती हैं कि सुषमा स्वराज के बयान का ज़्यादा राजनीतिक अर्थ निकालने की ज़रूरत नहीं है.

वो कहती हैं, "सुषमा स्वराज के बयान से ये बिल्कुल नहीं समझना चाहिए कि नरेंद्र मोदी भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार होंगे. ऐसा इसलिए है क्योंकि इस मामले को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता तय करेंगे. और ये सारी बातें गुजरात चुनाव के नतीजे आने के बाद ही तय होंगी. सुषमा स्वराज गुजरात में चुनावी रैली में गई हैं, तो वो तो ऐसा कहेंगी ही वहां. जहां तक बाकी भाजपा नेताओं की बात है, तो अगर कल को नरेंद्र मोदी पार्टी अध्यक्ष बन जाते हैं या प्रधानमंत्री पद के दावेदार के रूप में उभर कर आते हैं, तो सभी चाहते हैं कि उनके मोदी के साथ रिश्ते ठीक-ठाक बने रहें."

समर्थन-विरोध

लेकिन कुछ समय पहले आरएसएस से जुड़े बुद्धिजीवी एमजी वैद्य ने भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी के खिलाफ भाजपा के भीतर उठ रही आवाजों के पीछे नरेंद्र मोदी के होने की संभावना जताई थी.

अपने ब्लॉग में वैद्य ने लिखा था, "पार्टी के अंदर जो विरोध है, उसका केंद्र गुजरात में है. नरेन्द्र मोदी को लगता होगा कि गडकरी पार्टी अध्यक्ष होगे, तो उनकी प्रधानमंत्री बनने की महत्त्वाकांक्षा पूरी नहीं होगी."

वैसे ये पहला मौका नहीं है जब कोई भाजपा नेता खुलकर नरेंद्र मोदी के समर्थन में सामने आया हो. कुछ समय पहले पार्टी से अब निलंबित हो चुके राम जेठमलानी ने भी प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी के नाम की वक़ालत की थी.

इस बारे में नीना व्यास कहती हैं, "काफ़ी लोग नरेंद्र मोदी की वकालत कर चुके हैं, कुछ दबी आवाज़ में तो कुछ ज़ोर से. मगर सच बात ये है कि कोई दूसरा बड़ा भाजपा नेता नहीं चाहता कि मोदी आ जाएं क्योंकि अगर मोदी आ जाते हैं तो सब जानते हैं कि उनका जैसा तानाशाही रवैया है, बाकी लोगों के पास जी-हुज़ूरी के अलावा कोई और काम नहीं रह जाएगा."

संबंधित समाचार